कहानी- बहू जैसा प्यार

संगिता की सास ने उसे ये क्यों कहा कि वो उसे बेटी जैसा नहीं बहू जैसा ही प्यार देगी? उनके इस बात का संगिता पर क्या असर हुआ?

कहानी- बहू जैसा प्यार
''संगिता, मैं तुम्हें यह नहीं कहूंगी कि मैं तुम्हें बहू नहीं बेटी ही मानुंगी। बेटी, बेटी होती हैं और बहू, बहू होती हैं! मैं तुम्हें बेटी जैसा प्यार नहीं दुंगी...मैं तुम्हें बहू जैसा प्यार ही दुंगी!!'' रह-रह कर होने वाली सास के ये शब्द मेरे दिमाग में हथौडे की तरह वार कर रहे थे। 
आज मुझे देखने प्रमोद के साथ उसके मम्मी-पापा और दीदी-जीजाजी आएं थे। प्रमोद और मैं दोनों ही इंजीनियर हैं। प्रमोद की जॉब मुंबई में थी और मेरी बंगलेरु में। प्रमोद मेरी भुवाजी के दूर के रिश्ते में कोई लगते थे। भुवाजी-फुफाजी प्रमोद की और उनके परिवार की तारीफ़ करते थकते नहीं थे। प्रमोद के मम्मी की तो भुवाजी इतनी तारीफ़ कर रही थी...जैसे कि वो खुद इंजीनियर हैं, पति और बेटा दोनों इंजीनियर हैं तो जाहिर हैं कि पैसों की कोई कमी नहीं हैं लेकिन घमंड नाम की कोई चीज उनमें नहीं हैं। लड़ाई-झगड़ा करना तो उन्हें आता ही नहीं। उलट उनकी हमेशा यही कोशिश रहती हैं कि उनकी वजह से किसी का दिल न दुखे। खुद इंजीनियर होने के बावजूद और इतना पैसा होने के बावजूद खाना वे स्वयं बनाती हैं। सिर्फ़ सब्जी आदि काटने के लिए काम वाली की सहायता ले लेती हैं। उनका मानना हैं कि खाना हमने स्वयं ही बनाना चाहिए ताकि घर के सभी सदस्यों को शुद्ध और सात्विक भोजन मिले। इतनी तारीफ़ सुन कर मुझे मन ही मन लग रहा था कि यदि यह संबंध हो जाता हैं तो मैं अपने आप को बहुत खुश नसीब समझुंगी। क्योंकि कहा जाता हैं न पति-पत्नी के गुण नहीं मिले तो चलता हैं लेकिन सास-बहू के गुण मिलना चाहिए तभी वैवाहिक जीवन सुखी रहता हैं। यहीं सोच कर मैं मन ही मन खुश हो रही थी कि मुझे बहुत अच्छी सास मिलने वाली हैं। 

लेकिन आज जब उन्होंने बहू जैसा प्यार देने की बात कही तो वो बात किसी के भी समझ में नहीं आ रही थी। आज तक सभी ने यहीं सुना था कि हर सास ऐसा ही कहती हैं, ''तुम मेरी बहू नहीं बेटी हो...मैं तुम्हें बेटी जैसा ही प्यार दुंगी।''  लेकिन यहां तो उलटा ही हो रहा हैं। 
''बहू जैसा प्यार?'' घर में सभी को आशंका हो रही थी कि कहीं वे शादी के बाद फिल्मों वाली ललिता पवार टाइप की सास न बन जाए! यदि ऐसा हुआ तो मेरा क्या होगा? लेकिन सिर्फ़ इस एक बात को नज़रअंदाज़ किया जाए तो बाकी सभी बाते अच्छी होने से घर के सभी सदस्यों को लग रहा था कि ये रिश्ता हो जाना चाहिए और...आखिरकार शादी हो गई। 

मेरी शादी तो हो गई लेकिन दिमाग में हर वक्त मम्मी जी के शब्द ''तुम्हें बहू जैसा प्यार दुंगी'' गुंजते रहते थे। इसलिए मैं मन ही मन डरी हुई थी। मैं प्रमोद से इस बारे में बात नहीं कर सकती थी क्योंकि मुझे डर था कि कहीं प्रमोद यह न समझ बैठे कि शादी होते से ही मैं ने मम्मी जी के ख़िलाफ़ उनके कान भरना शुरू कर दिए। इसलिए मैं ने मन ही मन फैसला लिया था कि मैं अपना हर काम इतना परफेक्शन से करुंगी कि मम्मी जी को शिकायत का मौका ही नहीं मिलेगा। जब शिकायत का मौका ही नहीं मिलेगा तो वे ललिता पवार नहीं बन पायेंगी! 

इस बात का मेरे उपर इतना असर हुआ कि मैं हर वक्त डरी-डरी सी रहने लगी। प्रमोद ने भी दो-तीन बार प्रेम से पूछा, ''क्या बात हैं, तुम खुश नहीं दिखती? तुम्हें किसी ने कुछ बोला क्या?'' मैं उन्हें क्या बोलती? मैं ने इतना ही कहा, ''नहीं, ऐसी कोई बात नहीं हैं। नया घर, नया वातावरण...सब कुछ नया होने से शायद मैं अपने आप को एडजस्ट नहीं कर पा रही हूं। धीरे-धीरे सब ठीक हो जाएगा।'' मम्मी जी, पापा जी भी मेरा बहुत ख्याल रख रहे थे। हर वक्त बहुत प्यार से पेश आते। लेकिन मेरे मन में जो बहू जैसा प्यार की गांठ बैठ चुकी थी, वो निकल ही नहीं पा रही थी। 

सब लोग कहते हैं न कि शादी के बाद कुछ दिनों तक तो ससुराल के सभी लोग अच्छे से ही रहते हैं...असलियत तो धीरे-धीरे सामने आती हैं!! अभी तो शुरवात हैं इसलिए ये लोग प्यार जता रहे हैं...धीरे-धीरे...मेरा मन इन्हीं सब आशंकाओं से ग्रस्त रहने लगा। शादी के आठ-दस दिनों बाद की बात हैं। मैं चाय बनाने के लिए दूध के गंज (तीन लीटर दूध था) में से दूध निकालने लगी तो न जाने कैसे क्या मेरे हाथ से सांडसी बराबर पकड़ी नहीं गई और गंज हाथ से छूट गया। पूरा की पूरा गरम-गरम दूध नीचे गिर गया। मैं इतनी ज्यादा डर गई कि पूछो मत! कहां तो मैं सोच रही थी कि मैं हर काम पूरी परफेक्शन से करुंगी और कहां ये दूध...उसमें भी खास बात यह थी कि दूधवाला दिन में सिर्फ़ एक बार सुबह ही दूध लाता था। पैकेट के दूध में मिलावट होने से वो घर में नहीं लाते थे। सभी लोग चाय का इंतजार कर रहे थे। गंज गिरने की आवाज़ सुन कर मम्मी जी ने बाहर से ही आवाज़ लगाई, ''संगिता क्या हुआ?'' मैं तो इतनी ज्यादा डर गई थी कि मेरे मुंह से आवाज़ ही नहीं निकली। तब मम्मी जी खुद किचन में आए। मम्मी जी को सामने देख कर मैं डर के मारे कांपने लगी। मुझे लगा कि अब वे ज़रुर ललिता पवार बन जायेगी क्योंकि अब कल सुबह तक किसी को भी चाय नसीब नहीं होने वाली और सभी को चाय पीने की आदत हैं। मम्मी जी ने गिरे हुए दूध की तरफ़ और मेरे तरफ़ देखा और मैं बम फटने का इंतजार करने लगी...बस, अब फटा बम...अब फटा...लेकिन ये क्या बम तो फुसका निकला...मम्मी जी मेरे पास आएं और बोले, ''कोई बात नहीं हैं संगिता! तुम इतनी डर क्यों रहीं हो? तुमने कोई जानबुझ कर थोड़े ही गिराया हैं दूध? हो जाता हैं कभी-कभी! कोई बात नहीं... तुम रिलैक्स हो जाओ।'' 
''लेकिन मम्मी जी अब चाय कौन से दूध से बनेगी? दूध वाला तो कल आयेगा!''  
''मैं अभी पैकेट का दूध बुला लेती हूं।''  
''लेकिन आप ही ने कहा था कि अपने यहां पैकेट का दूध नहीं लाते?''  
''लाते तो नहीं हैं। लेकिन सभी को चाय का एक तरह का नशा हो गया हैं। तो चाय के बिना तो नहीं रहेंगे। इसलिए इमरजेंसी में एकाध बार चलता हैं पैकेट का दूध। हम लोग ऑफ़िस में चाय पीते हैं न? वहां कौन से दूध का उपयोग किया गया हैं क्या हमें पता चलता हैं? ऑफ़िस में हमारी मजबूरी हैं लेकिन घर में जहां तक संभव हो शरीर के दृष्टिकोन से जो अच्छा रहता हैं वो करना चाहिए इसलिए अपन पैकेट का दूध नहीं लेते। लेकिन एकाध बार में कुछ नहीं होता। रोज-रोज थोड़े ही दूध गिर जाएगा? अब तुम रिलैक्स हो जाओ।'' 

मैं ने मन में सोचा मैं फ़िजूल ही डर रही थी। मम्मी जी तो कितने अच्छे हैं। लेकिन दूसरे ही पल सहेली की बात याद आ गई कि ये सब चोचले शादी के शुरवात में ही होते हैं...आगे-आगे देखना होता हैं क्या...यह बात याद आते ही फ़िर से मन में वहीं डर समा गया। दो-एक बार और इसी तरह की छोटी-छोटी ग़लतियाँ हुई लेकिन तब भी मम्मी जी ने मुझे प्यार से ही समझाया।

चार-पांच महीने के बाद की बात हैं। सभी को पालक पनीर की सब्जी बहुत पसंद थी। आज रविवार की सभी की छुट्टी होने पालक पनीर की सब्जी बना ने का तय हुआ। सब लोग खाना खाने बैठे तो जैसे ही इन्होंने पहला कौर मुंह में लिया तो बहुत बुरा मुंह बनाया और एक घूंंट पानी पीकर बोले कि आज सब्जी में नमक डाला हैं कि नमक में सब्जी डाली हैं? आज डबल नमक हैं सब्जी में! मुझे काटो तो खून नहीं। हे भगवान, अब? अब ज़रुर मम्मी जी अपना बहू वाला प्यार दिखायेंगे...कहेंगे कि तेरी मम्मी ने यहीं सिखाया क्या? पढ़-लिख कर नौकरी कर रहीं हैं इसका ये मतलब नहीं कि तुम्हें सब्जी बनाना भी नहीं आना चाहिए! तुम्हारी माँ ने तो कहा था कि मेरी बेटी को सब आता हैं...फ़िर ये क्या हैं? मैं ये सब सोच ही रही थी कि इतने में मम्मी जी ने मुझे जोर से झंझोड़ा। 
''संगिता, संगिता...'' 
''अं...आ...'' 
''क्या हुआ? तुम कांप क्यों रहीं हो? रो क्यों रही हो?''  
''अं...आ...कुछ नहीं...वो...वो...सब्जी...मम्मी जी, सॉरी, न मालूम आज कैसे क्या नमक डबल हो गया...अब सब लोग खाना कैसे खायेंगे?''
''फुलगोभी की सब्जी, दाल, चटनी और अचार हैं न! खा लेंगे। तू घबरा मत। लेकिन आगे से सब्जी बनाते वक्त थोड़ा ख्याल दिया कर।'' 

दोपहर में जब मैं और मम्मी जी अकेले थे तब वो बोली, ''शादी हुई हैं तभी से मैं देख रही हूं कि तुम फ्री नहीं लग रही हो। ऐसा लगता हैं कि कहीं खोई-खोई सी, डरी-डरी सी लगती हो। क्या बात हैं? यदि तुम मुझे नहीं बताओगी तो हम समस्या का निदान कैसे कर पायेंगे? यहां तुम्हारी मम्मी नहीं हैं। लेकिन मैं तो हूं न? तुम मुझ से अपने मन की हर बात कर सकती हो...!'' उनके इतने प्रेम से बोलने पर मैं अपने-आप को रोक नहीं पाई और रोने लगी। उन्होंने मुझे अपने बाहों में भर लिया। 
''अब बता क्या बात हैं?''  
''मम्मीजी, जब आप मुझे देखने आई थी तो आपने कहा था न कि आप मुझे बेटी जैसा नहीं, बहू जैसा प्यार करेंगी।'' 
''हां, कहा था...तो?''
''बहू जैसा भी कोई प्यार होता हैं क्या? बहू की छोटी से छोटी गलती पर भी उसे इतना प्रताडित किया जाता हैं कि मानो उससे बहुत बड़ा गुनाह हो गया हो...इसलिए मुझे लगा कि आप मेरी छोटी से छोटी गलती पर भी महाभारत रचेगी। इनको मेरे खिलाफ़ भडकायेगी। इसी सोच के चलते मैं हर वक्त डरते रहती हूं कि मुझ से कोई गलती नहीं होनी चाहिए। मुझ पर नाराज़ होने का आपको कोई मौका नहीं मिलना चाहिए। सच बताउं तो आज तक मुझ से जो भी ग़लतियाँ हुई वो इसी घबराहट के चलते हुई। लेकिन मेरी एक बात समझ में नहीं आई। बहू जैसा प्यार करुंगी ऐसा कहने पर भी आपने आज तक अपना सासुपना नहीं दिखाया और मुझे डांटा भी नहीं। फ़िर आपने ऐसा क्यों कहा था कि आप बहू जैसा प्यार करेंगी?''
''अरे पगली...मुझे नहीं पता था कि तू मेरी साधी सी बात को इतना दिल पर लगा लेगी! एक बात बता। क्या कभी तू ने किसी माँ को अपने बेटी से यह कहते सुना कि वो उसे बहू जैसा प्यार करेगी? नहीं न? जब हम बेटी को बहू जैसा प्यार नहीं करते, तो बहू को बेटी जैसा प्यार क्यों करते हैं? इसका तो यहीं मतलब हुआ न कि हम बेटी को ज्यादा महत्व देते हैं, बेटी को ज्यादा प्यार करते हैं...इसलिए बहू से कहते हैं कि तुझे बेटी बनायेंगे, तुझे बेटी जैसा प्यार देंगे। हम लोग बेटे को ज्यादा महत्व देते हैं इसलिए बेटे को बेटे जैसा ही प्यार देते हैं...कभी भी बेटे से यह नहीं कहते कि तुझे बेटी जैसा प्यार देंगे। यदि हम बेटा और बेटी दोनों को समान समझते हैं, तो बेटी को बेटी जैसा प्यार क्यों नहीं दे सकते? मेरी नजर में जिस तरह बेटी का अपना एक अलग अस्तित्व हैं, उसी तरह बहू का भी अपना एक अलग अस्तित्व हैं। मैं बहू को बेटी से किसी भी मामले में कम नहीं समझती इसलिए मैं ने कहा था कि मैं तुम्हें बेटी जैसा नहीं, बहू जैसा प्यार दुंगी। मुझे क्या पता था कि तू उसका गलत मतलब लगाके वह बात दिल को लगा लेंगी। चल अब आँसू पोंछ, नहीं तो मैं सचमुच में फिल्मों वाली ललिता पवार बन जाउंगी!'' 
उन्होंने यह बात इस अंदाज में कही कि हंसते-हंसते हम दोनों का बुरा हाल हो गया। आज मुझे पता चला कि बहू वाला प्यार भी होता हैं!!!

Keywords: story in Hindi, emotional story, daughter-in-law, bahu jaisa pyar

COMMENTS

BLOGGER: 16
  1. वाह!ज्योति ,आपने तो जैसे मेरे मन की बात कह दी । बहुत उम्दा सृजन👌

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. इतनी त्वरित टिप्पणी और हौसला अफजाई के लिए धन्यवाद, शुभा दी।

      हटाएं
  2. आपकी लिखी रचना ब्लॉग "पांच लिंकों का आनन्द" में मंगलवार 07 जनवरी 2020 को साझा की गयी है......... पाँच लिंकों का आनन्द पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. मेरी रचना को "पांच लिंकों का आनंद" में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, यशोदा दी।

    जवाब देंहटाएं
  4. भावपूर्ण सृजन है
    घर की असली लक्ष्मी तो पुत्रवधू ही होती है।
    फिर भी पता नहीं क्यों लोग सास और बहू को आपस में लड़ाते रहते हैं। इस कार्य में रिश्तेदार एवं पड़ोसियों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. शशी भाई, घर की असली लक्ष्मी तो पुत्रवधू ही है। इस सच्चाई को जानते-समझते हुए भी आज भी लोग बहू को बहू का सम्मान और प्यार नहीं देते यहीं तो विडंबना हैं।

      हटाएं
  5. सासू माँ को क्या भारतीय सासों के बदनाम इतिहास का कुछ भी ज्ञान नहीं था?
    अपने डायलॉग से बिना बात के बहू बेचारी को डरा दिया.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. गोपेश भाई, कई बार ऐसा होता हैं कि इंसान की मंशा कुछ अच्छा करने की होती हैं (जैसे कि यहां पर सासू माँ अपनी बहू को भी उतना ही सम्मान और प्यार देना चाहती हैं जितना की एक बेटी को) लेकिन प्रचलित पुर्वाग्रहो के कारण उसका कुछ दूसरा ही मतलब निकाल लिया जाता हैं। जिसकी वजह से समस्या निर्मित हो जाती हैं।

      हटाएं
  6. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (07-01-2020) को   "साथी कभी साथ ना छूटे"   (चर्चा अंक-3573)   पर भी होगी। 
    -- 
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
    -- 
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।  
    सादर...! 
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' 

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को "चर्चा मंच" में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद,आदरणीय शास्त्री जी।

      हटाएं
  7. सही कहा बहू को बेटी वाला नहीं बहू वाला ही प्यार दें ......जिसकी बहुत आजीवन हकदार है
    बहुत ही सुन्दर शिक्षाप्रद कहानी

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी लिखी कहानी ज्योतिजी। इसे पढ़ने में मज़ा आया। धन्यवाद :)

    जवाब देंहटाएं
  9. ज्योति बहन!
    घटना (रचना) का आखिरी अनुच्छेद ख़ुशी के आँसू रुला गया। नम आँखों में ही लिख रहा हूँ।
    संगीता की सासूमाँ की विचारधारा - "खाना हमने स्वयं ही बनाना चाहिए ताकि घर के सभी सदस्यों को शुद्ध और सात्विक भोजन मिले।"- मेरी भी सोच के करीब हैं।
    काश! बेटी-बेटी, बहू को बेटी जैसे सम्बोधन के ढोंग से परे आपके आखिरी सन्देश - "आज मुझे पता चला कि बहू वाला प्यार भी होता हैं!!!" - को समाज का हर रिश्तेदार (केवल सास ही नही) समझ लें तो हर परिवार खुशहाल परिवार बन जाए और ब्राह्मणों के बतलाए तथाकथित स्वर्ग की प्रतीक्षा नहीं करनी पड़े ... सुखान्त और रोचक लेखनी के लिए साधुवाद ...

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर

    1. सुबोध भाई, इतने अच्छे शब्दों में प्रतिक्रिया हेतु बहुत बहुत धन्यवाद। सच कहा आपने कि हर परिवार बहू को बहू जैसा प्यार दे तो हर घर स्वर्ग से सुंदर बन जाएगा।

      हटाएं
  10. बहुत अच्छी शिक्षाप्रद कहानी ज्योति जी। सास -और बहु के लिए जो एक तथाकथित मानसिकता बना दी गई हैं कि " सास कभी माँ नहीं बन सकती और बहु कभी बेटी नहीं बन सकती " इन्ही सोचो से हर घर की समस्या की शुरुआत होती हैं। ये एक दूसरे से की गई अपेक्षा ही होती हैं और मन में धारणा बन चुकी होती हैं कि -ऐसा तो हो ही नहीं सकता। आपकी कहानी का सारांश " बहु को बहु वाला प्यार दे "बहुत ही सराहनीये हैं। सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  11. शिक्षाप्रद कहानी ज्योति जी बहू को बेटी वाला नहीं बहू वाला ही प्यार दें

    जवाब देंहटाएं

नाम

'रेप प्रूफ पैंटी',1,#मीटू अभियान,1,#साड़ीट्विटर,1,10 मिनट रेसिपी,1,14 नवम्बर,1,15 अगस्त,3,25 दिसम्बर,1,26 जनवरी,1,5000 रुपए किलों का गुड़,1,8 मार्च,4,अंंधविश्वास,1,अंकुरित अनाज,1,अंगदान,1,अंगुठी,1,अंगूर,1,अंगूर की लौंजी,1,अंगूर की सब्जी,1,अंग्रेजी,2,अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस,6,अंतरराष्ट्रीय वृद्धजन दिवस,1,अंतिम संस्कार,1,अंधविश्वास,21,अंधश्रद्धा,18,अंधश्रध्दा,3,अंश,1,अग्निपरीक्षा,1,अग्रवाल,1,अग्रसेन जयंती,1,अग्रसेन जयंती की शुभकामनाएं,1,अचार,13,अच्छी पत्नी,1,अच्छी पत्नी चाहिए तो...,1,अच्छे काम,1,अजब-गजब,3,अजय नागर,1,अतित,1,अदरक,1,अदरक का चूर्ण,1,अदरक-लहसुन पेस्ट,1,अनमोल वचन,10,अनरसा,1,अनुदान,1,अनुप जलोटा,1,अनोखी शादी,1,अन्न,1,अन्य,32,अन्याय,1,अपमान,1,अपेक्षा,1,अप्पे,4,अमरुद,1,अमरूद की खट्टी-मीठी चटनी,1,अमीरी,1,अमेजन,1,अरबी,1,अरुणा शानबाग,1,अरुनाचलम मुरुगनांथम,1,अलगाव,1,अवधेश,1,अवार्ड,2,अशोक चक्रधारी,1,असली हीरो,23,अस्पताल,1,अस्पतालों में बच्चों की मौत,1,आंवला,8,आंवला कैंडी,1,आंवला चटनी,1,आंवला मुरब्बा,1,आंवला लौंजी,1,आंवले का अचार,1,आंवले का शरबत,1,आंवले की गटागट,1,आइसक्रीम,1,आईसीयू ग्रेंडपा,1,आग,1,आज के जमाने की अच्छाइयां,1,आजादी,2,आज़ादी,1,आतंकवादी,2,आत्महत्या,5,आत्मा,1,आदित्य तिवारी,1,आम,10,आम का अचार,1,आम का पना,2,आम का मुरब्बा,2,आम की बर्फी,1,आम पापड़,1,आयशा खान,1,आयशा सुसाइड साबरमती,1,आरओ,1,आरक्षण,3,आरती मोर्य,1,आलू,5,आलू की पापडी,1,आलू की मठरी,1,आलू की सब्जी,1,आलू को स्टोर करना,1,आलू पोहा अप्पे,1,आलू प्याज के स्टफ्ड पकोड़े,1,आलू साबूदाना पापड़,1,इंसान,2,इंसानियत का पाठ,1,इंस्टंट डोसा,2,इंस्टंट पनीर मखनी,1,इंस्टंट मावा,1,इंस्टंट स्नैक्स,1,इंस्टट ढोकला,1,इंस्टेंट कलाकंद बर्फी,1,इंस्टेंट कुल्फी,1,इंस्टेंट नूडल्स,1,इंस्टेंट मिठाई,1,इडली,3,इन्डियन टाइम,1,इमली,1,इरोम शर्मिला,1,ईद,1,ईश्वर,7,ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना,1,ईसा मसीह,1,उटी,1,उपमा,3,उपवास,1,उपवास का हांडवो,1,उपवास की इडली,1,उपहार,2,उमा शर्मा,1,उम्र,1,उम्र का लिहाज,1,ऋषि पंचमी,1,एक सवाल,1,एल्युमिनियम फॉयल पेपर,1,ऐनी दिव्या,1,ऐश ट्रे,1,ऐस्टरॉइड,1,ऑनलाइन,1,ओट्स,1,ओट्स वेजिटेबल ढोकला,1,ओरियो स्वीट रोल,1,ओरैया,1,और इज्जत बच गई,1,औरंगाबाद हादसा,1,कंघा,1,कंडेंस्ड मिल्क,1,कंसन्ट्रेट आम पना,1,कच्चे आम,1,कच्चे आम का चटपटा पापड़,1,कछुआ,1,कटलेट्स,1,कढ़ी,1,कद्दु,1,कद्दु के गुलगुले,1,कद्दू,1,कद्दू का बेसन,1,कन्यादान,3,कबीर सिंह मूवी,1,कम तेल की रेसिपी,1,कमाने वाली बहू,1,करवा चौथ,2,करवा चौथ शायरी,1,करवा-चौथ,5,कल्पना सरोज,1,कल्याणी श्रीवास्तव,1,कहानी,37,कांजी,1,काजू,1,काजू करी,1,कानून,1,कामवाली बाई,4,कालीन,1,किचन टिप्स,17,किटी पार्टी,1,किन्नर,1,कियारा आडवानी,1,किराए पर बीवियां,1,किसान,1,किसान आंदोलन,1,कुंडली मिलान,1,कुंबाकोणाम,1,कुंभ मेला,1,कुरकुरे,1,कुरकुरे भिंडी बाइट्स,1,कुल्फी,1,कुल्फी प्रीमिक्स,1,कूकर,1,कृषि विधेयक 2020,1,केईएम् अस्पताल,1,केचप,1,कैंडी,1,कैरी मिनाती,1,कॉर्न,4,कॉर्न इडली,1,कोंडागांव,1,कोको कोला,1,कोरोना,4,कोरोना टिप्स,1,कोरोना वरीयर्स,2,कोरोना वायरस,8,कोरोना वैक्सीन,1,कोल्ड ड्रिंक,2,कोविड-19,2,कोवीड-19,2,कौए,1,क्रिसमस डे,2,क्रिसमस डे की शुभकामनाएं,1,क्रिस्टियानो रोनाल्डो,1,क्रिस्पी डोसा बनाने के सिक्रेट्स,1,क्षमा,2,खजूर,1,खत,6,खबर,3,खरबूजा,2,खरबूजे का शरबत,1,खरेदी,1,खांडवी,1,खाद्य पदार्थ,1,खाना,1,खारक,1,खारी गरम,1,खाली पेट चाय,1,खीर,1,खुले में शौच,1,खुशी,2,खोया,2,गणतंत्र दिवस,1,गणेश चतुर्थी,4,गणेश चतुर्थी पर शायरी,1,गणेश चतुर्थी प्रसाद रेसिपी,1,गणेश जी,1,गन्ने का रस,1,गरम मसाला,1,गर्दन दर्द,1,गर्भावस्था,1,गर्भाशय,1,गलत व्यवहार,1,गलती,2,गांधी जयंती,1,गाजर,5,गाजर अप्पे,1,गाजर के पैनकेक,1,गाजर मूली का अचार,1,गाजर-मूली के दही बडे,1,गाय,1,गाली,1,गिफ्ट,1,गुजरात,1,गुजराती डिश,1,गुजिया,1,गुड़,1,गुड टच और बैड टच,2,गुड मॉर्निंग संदेश,1,गुड़हल,1,गुनगुना पानी,1,गुरु पूर्णिमा,1,गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं,1,गुलगुले,1,गुलाब जामुन,1,गुस्सा,1,गूगल ट्रेंड्स,1,गृहस्वामिनी,1,गेहूं,1,गेहूं का आटा,1,गेहूं के आटे की मठरी,1,गैस बर्नर,2,गोभी और चना दाल के बडे,1,गोरखपुर,1,गोरा रंग,1,गोल्डन ग्रेवी प्रीमिक्स,1,गौरी पराशर,1,ग्रीन टी,1,घंटी,1,घिया,1,घी,2,घी की नदी,1,घी खाने के फायदे,1,चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण शक्ति,1,चकली,1,चटनी,9,चमत्कार,1,चाँद पर जमीन,1,चाय,2,चाय मसाला,1,चावल,3,चावल के पापड़,1,चावल के फ्रायम,1,चाशनी,1,चाशनी वाली मावा गुजिया,1,चींटी,1,चींटीया,1,चीज,1,चीनी देवता,1,चीला,4,चुर्ण,1,चूर्ण,6,छाछ,1,छींक,1,छोटी बाते,1,छोटे लेकिन काम के टिप्स,5,जज्बा,2,जनसंख्या,1,जन्मदिन,3,जन्मदिन की शुभकामनाएं,2,जन्माष्टमी,3,जन्माष्टमी रेसिपी,1,जमाना,1,जलेबी,1,जाट आंदोलन,1,जात-पात,1,जाति,3,जादुई दिया,1,जाम,1,जास्वंद,1,जिंदगी,2,जिम्नास्टिक,1,जींस,1,जीएसटी,1,जीरो ऑइल रेसिपी,5,जोमैटो,1,जोयिता मंडल,1,जोरु का गुलाम,1,ज्योतिष विद्या,1,ज्वार की रोटी,1,ज्वेलरी,1,झारखंड,1,झाले-वारणे,2,झूठ,1,टमाटर,1,टमाटर केचप,1,टमाटर प्यूरी,1,टमाटर सूप,1,टाइल्स पर के सिलेंडर के दाग,1,टिप्स कॉर्नर,64,टी.व्ही. और सिनेमा,1,टेबल टेनिस,1,टोक्यो ओलंपिक,2,टोक्यो पैरालंपिक,1,टोमैटो केचप,1,ठंडा पानी,1,ठंडे पेय,6,ठेचा,1,डर,2,डैंड्रफ,1,डॉक्टर,2,डॉटर्स डे,3,डॉटर्स डे विशेस,1,डॉटर्स डे शायरी,1,डोनाल्ड ट्रम्प,1,डोसा,2,ड्राई फ्रूट,2,ड्राई फ्रूट मोदक,1,ड्राई फ्रूट्स लड्डू,1,ड्रेगन,1,ढाबा स्टाइल सब्जी,2,ढाबे वाली दम अरबी,1,ढोकला,1,ढोकले,1,तरबूज,3,तरबूज के छिलके का हलवा,1,तरबूज खरीदने के टिप्स,1,तलाक,1,ताजे नारियल की बर्फी,1,तिल,4,तिल की कुरकुरी चिक्की,1,तिल के लड्डू,2,तिल गुड़ की रेवड़ी,1,तीज,1,तुलसी,1,तेजतर्रार बहू,1,तेल,1,तेलंगाना,1,तोहफ़ा,1,त्यौहार,1,थ्री इडियट्स,1,दक्षिणा,1,दर्द,1,दर्द का रिश्ता,1,दवा,1,दशहरा,1,दशहरा की शुभकामनाएं,1,दशहरा शायरी फोटो,1,दही,6,दही और लहसुन की चटनी,1,दही मसाला भिंडी,1,दही वाली लौकी की सब्जी,1,दही सैंडविच,1,दहेज,3,दाग-धब्बे,2,दान,1,दाले,2,दासी,1,दिपावली,1,दिपावली बधाई संदेश,3,दिवाली,2,दिवाली मिठाई,1,दिशा,1,दीपावली शुभकामना संदेश,1,दीवाली रेसिपी,1,दुःख,1,दुध पावडर,1,दुबई,1,दुबई यात्रा,1,दुर्गा माता,1,दुल्हा,1,दुश्मन,1,दूध,4,दूध गुलकंद मोदक,1,देश सेवा,1,देशभक्ति,3,देशभक्ति शायरी,2,देहदान,1,दोस्त,2,दोस्ती,1,धनिया,1,धर्म,3,धर्मग्रंध,1,धार्मिक,47,नई जनरेशन,2,नक्सली,1,नजर,1,नजर कैसे उतारु,1,नदी में पैसे,1,नन्ही परी,1,नमक पारे,1,नमकीन,1,नया साल,1,नरेद्र मोदी स्टेडियम,1,नवरात्र,2,नवरात्र स्पेशल,2,नवरात्रि,3,नवरात्रि की शुभकामनाएं,1,नवरात्रि शायरी फोटो,1,नवरात्री रेसिपी,10,नववर्ष,2,नववर्ष की शुभकामनाएं,2,नाइंसाफी,1,नाग पंचमी,1,नागरिकता संशोधन कानून,1,नानी,1,नारियल,2,नारियल की जटा,1,नारियल छिलने का तरीका,1,नारियल बर्फ़ी,1,नारी,63,नारी अत्याचार,18,नारी शिक्षा,1,नाश्ता,1,निंबु का अचार,1,निक वुजीकीक,1,निचली जाती,1,निमकी,1,निर्णयक्षमता,1,निर्भया,2,निवाला,1,नींबू,2,नींबू का शरबत,1,नीडल थ्रेडर,1,नेत्रदान,1,नेपाल त्रासदी,1,नेल आर्ट,1,न्याकिम गैटवेच,1,न्यू इयर रेसोल्युशन,1,न्यूजीलैंड,1,पकोडे,3,पकोड़े,2,पक्षी,1,पढ़ा-लिख़ा कौन?,1,पढ़ाई,1,पति,1,पति का अहं,1,पति की मौत,1,पति-पत्नी,1,पति-पत्नी संबंध,1,पत्ता गोभी,3,पत्ता गोभी की मुठिया,1,पत्नी,1,पत्र,1,पनीर,4,पनीर बटर मसाला,1,पनीर मोदक,1,पपीता,1,परंपरा,3,परफ्यूम,1,परवरिश,7,पराठे,2,परीक्षा,2,परेशानी,1,पर्स,1,पल्ली उत्सव,1,पवित्र,1,पवित्रता,2,पसंदीदा शिक्षक को पत्र,1,पांच मिनट रेसिपी,1,पान गुलकंद मोदक,1,पानी,1,पानी कैसे पीना चाहिए,1,पापड़,8,पालक,5,पालक के नमक पारे,1,पालक चीला,1,पालक बडी,2,पाश्चात्य संस्कृति,1,पिता,2,पीरियड,1,पीरियड पॉलिसी,1,पीरियड्स,3,पीरियड्स डिले टेबलेट्स,1,पीवी सिंधु,1,पुण्य,2,पुरानी मान्यताएं,1,पुलवामा हमला,1,पुष्कर,1,पूडी,1,पूरी,1,पूरी या पराठे,1,पेड-पौधे,2,पेड़े,1,पेढे,1,पैड्मैन,1,पैदाइशी गरीब नहीं हूँ,1,पैनकेक,2,पैर हिलाना,1,पैरेंटीग,1,पोर्न मूवी,1,पोषण,1,पोहा,2,पोहे के कुरकुरे,1,पौधे,1,प्याज,5,प्याज की चटनी,1,प्याज के क्रिस्पी पकोड़े,1,प्यार,5,प्यासा कौआ,1,प्रत्यूषा,1,प्रद्युम्न,1,प्रवासी मजदूर,2,प्रसन्न,1,प्राणियों से सीख,1,प्रियंका रेड्डी,1,प्री वेडिंग फोटोशूट,1,प्रीमिक्स,4,प्रेम,1,प्लास्टिक बाल्टी कैसे साफ़ करे,1,फर्रुखाबाद,1,फल,2,फल और सब्जी खरीदने से पहले,1,फलाहार,1,फलाहारी दही वडे,1,फल्लिदाने,1,फादर्स डे,3,फूल,1,फूल गोभी के परांठे,1,फ़ेंगशुई,1,फेसबुक,2,फैशन,1,फ्रायम,1,फ्रिज,1,फ्रिज में सब्जी,1,फ्रेंडशीप डे,1,फ्रेंडशीप डे शायरी,1,बंटवारे की अनोखी शर्त,1,बकरीद,1,बची हुई सामग्री का उपयोग,1,बच्चे,10,बच्चे की ज़िद,1,बच्चें,1,बच्चों के प्रोजेक्ट,1,बछबारस,1,बटर,1,बड़ा कौन?,1,बढ़ती उम्र,2,बदला,1,बदलाव,1,बधाई संदेश,4,बरबादी,1,बर्फ़,1,बर्फी,3,बलात्कार,10,बहन की रक्षा,1,बहू,6,बहू जैसा प्यार,1,बागवानी,2,बाजरा,1,बाल दिवस,1,बाल धोना,1,बाल शोषण,2,बाहर का खाना,1,बिकिनी,1,बिना गैस रेसिपी,4,बिना चाशनी की मिठाई,1,बिना प्याज लहसुन की रेसिपी,7,बिमारियों की असली वजह,1,बिल्ली के गले में घंटी,1,बिस्किट,1,बिस्कुट,1,बुढ़ापा,1,बुर्ज अल-अरब,1,बुर्ज खलीफा,1,बुलंदशहर गैंगरेप,1,बेटा,2,बेटा पढाओ,1,बेटी,8,बेटी बचाओ अभियान,2,बेटे का फ़र्ज,1,बेबी फार्मिंग,1,बेमेल आहार,1,बेसन,2,बेसन के लड्डू,1,बेसन वाली कुरकुरी हरी मिर्च,1,बैंगन,1,बोझ,1,बोर होना,1,ब्रम्हाजी,1,ब्रेकअप,1,ब्रेकिंग न्यूज,1,ब्रेड,5,ब्रेड की रसमलाई,2,ब्रेड पकोडा,1,ब्रेड पिस्ता पेढे,1,ब्रेड मलाई रोल,1,ब्लॉगअद्दा एक्टिविटी,1,ब्लॉगर ऑफ द इयर 2019,1,ब्लॉगर्स रिकोग्निशन अवार्ड,1,ब्लॉगिंग,7,ब्ल्यू व्हेल गेम,1,भक्ति,1,भगर,5,भगर की इडली,1,भगर के उत्तपम,1,भगर के कटलेट,1,भगवान,4,भजिए,2,भरता,1,भरवां मिर्च,1,भरवां शिमला मिर्च,1,भरवां हरी मिर्च का अचार,1,भाई दूज शायरी,1,भाकरवड़ी,1,भागीरथी अम्मा,1,भाभी,1,भारत,2,भारतीय नारी,1,भारतीय मसाले,1,भाविना पटेल,1,भिंडी,2,भिखारी,1,भुट्टे के पकोड़े,1,भूकंप,1,भोंदू,1,भोजन,1,भ्रुण हत्या,1,मंदसौर गैंग रेप,1,मंदिर,3,मंदिरों में ड्रेस कोड़,1,मंदिरों में दक्षिणा,1,मकई,5,मकई उपमा,1,मकई चीला,1,मकई पकोडे,1,मकर संंक्रांति,1,मकर संक्रांति,4,मकर संक्रांति की शुभकामनाएं,1,मकर संक्राति,1,मखाना,1,मखाने के लड्डू,1,मजेदार पहेलियाँ,2,मटके पर औंधा लोटा,1,मटर,4,मटर के अप्पे,1,मटर के पकोड़े,1,मटर पनीर,1,मठरी,5,मठ्ठा,1,मथुरा के पेड़े,1,मदर्स डे,5,मदर्स डे का गिफ्ट,1,मम्मी,2,मर्द,1,मलाई,2,मलाई पनीर,1,मलाई फ्रूट सलाद,1,मल्ला तामो,1,मसाला छाछ,1,मसाला मठरी,1,मस्जिद,1,महात्मा गांधी जी,2,महानता,1,महाराजा अग्रसेन जी,1,महाराष्ट्र में आरक्षण,1,महिला आजादी,1,महिला आरक्षण,1,महिला दिवस,3,महिला सशक्तिकरण,4,महिला सुरक्षा,1,महिलाओं का पहनावा,1,माँ,6,माँ की हिम्मत,1,माउथ फ्रेशनर,1,माता यशोदा,1,माता लक्ष्मी,1,मातृभाषा,1,मायका,2,मारवाड़ी,1,मार्केटिंग स्ट्रेटेजी,1,माला,1,मावा,1,मावा कुल्फी,1,मासिक धर्म,3,माहवारी,7,मिठाई,39,मिठाई मेट,1,मित्र,2,मिलावट,1,मिलावट पहचानने के घरेलू तरीके,1,मिलिबग्स,1,मिल्क पाउडर,1,मिल्कमेड,1,मिस इंडिया 2019,1,मीठे चावल,1,मीठे जर्दा चावल,1,मुक्ति,1,मुखवास,1,मुनगा,1,मुबारकपुर कला,1,मुरब्बा,1,मुरमुरा,1,मुरमुरा लड्डू,1,मुलेठी,1,मुस्लिम,1,मुस्लिम मंच,1,मुहूर्त,1,मूंग की सूखी दाल का हलवा,1,मूंग दाल,1,मूंग दाल डोसा,1,मूंगदाल और आटे की कुरकुरी मठरी,1,मूंगफली,1,मूंगफली की सूखी चटनी,1,मूली,4,मूली का अचार,1,मूली के पत्तों के कुरकुरे कटलेट्स,1,मेंढक,1,मेंस्ट्रुअल कप,1,मेंहदी,8,मेडिसिन बाबा,1,मेथी,1,मेथी दाना चुर्ण,1,मेथी मटर मलाई,1,मेनु,1,मेरा मंत्र,3,मेरा श्राद्ध कर,1,मेरा सपना,1,मेरी बात,15,मैंगो फ्रूटी,1,मैंगो श्रीखंड,1,मैनर्स,1,मोदक,4,याकूब मोहम्मद,1,युरो 2020,1,यू ए ई,1,रंग,1,रंग पंचमी,1,रक्तदान,1,रक्तदान के फायदे,1,रक्षा बंधन,2,रक्षाबंधन,2,रक्षाबंधन शायरी,1,रजस्वला नारी,5,रवा इडली,1,रसे वाली अरबी,1,रसोई,174,रांगोली,3,राखी,5,राखी का अनोखा गिफ्ट,1,राखी स्पेशल मिठाई,1,राज की बात,1,राजभाषा,1,राजस्थानी समाज,2,राजस्व,1,राम,1,राम नाम सत्य है,1,राम मंदिर,1,राम रहीम,1,रामनवमी,1,रामनवमी की शुभकामनाएं,1,राशिफल,1,राशी-भविष्य,1,राष्ट्रगान,1,राष्ट्रगीत,1,राष्ट्रभाषा,1,रिती-रिवाज,1,रिफाइंड ऑयल,1,रिफाइंड ऑयल के नुकसान,1,रिफाइंड तेल,1,रीतिरिवाज,1,रुपया-पैसा,1,रेणुका मिश्रा,1,रेन वाटर हार्वेस्टिंग,1,रेवड़ी,1,रेसोल्युशन,1,रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम,1,रेस्टोरेंट स्टाइल सब्जी,3,रैंचो,1,रोटी,4,रोस्टेड मूंगफली,1,लकड़ी की राख,1,लघुकथा,20,लच्छेदार मठरी,1,लड्डू,8,लहसुन,1,लहसुनी पालक,1,लाइटर,1,लाइफ स्किल्स,1,लाफिंग बुद्धा,1,लार,1,लाल मिर्च,1,लाल मिर्च का अचार,1,लाल मिर्च की सूखी चटनी,1,लिव इन,1,लिव इन रिलेशनशिप,1,लीव इन रिलेशनशिप,1,लेसवा का भरवां अचार,1,लेसुए,1,लैंगिक समानता,1,लॉकडाउन,3,लॉटरी,1,लोकल ट्रेन,1,लोकसभा चुनाव,1,लोग क्या कहेंगे?,1,लौंजी,1,लौकी,4,लौकी का भरता,1,लौकी का हलवा,1,लौकी की बड़ी,1,लौकी की सब्जी,1,वक्त,1,वटसावित्री व्रत,1,वर,1,वर्जिनिटी टेस्ट,1,वर्तमान,1,वर्षा जल संग्रहण,1,वर्षा जल संचयन,1,वाटर प्यूरीफायर,1,वायरल फोटो,1,वारी के हनुमान,1,विज्ञापन,1,विदर्भ स्पेशल रेसिपी,1,विधवा,2,विधवा ने किया कन्यादान,1,विधवा विवाह,1,विरुद्ध आहार,1,विशाखापट्टनम रेप कांड,1,वृंदावन,1,वृद्धावस्था,1,वेजिटेबल डोसा,1,वेजिटेबल पैनकेक,1,वैलेंटाइन गिफ़्ट,1,वैलेंटाइन डे,4,वैलेंटाइन डे शायरी,1,वैश्विक महामारी,1,वोट,1,वोट की किंमत,1,व्यंग,14,व्यायाम,1,व्रत,2,व्रत के दही भल्ले,1,व्रत रेसिपी,22,व्रत स्पेशल,1,शकरकंद,2,शकरकंद की जलेबी,1,शकरकंद को कैसे भुने,1,शकुन-अपशकुन,2,शक्करपारे,1,शनि देव,1,शबनम मौसी,1,शब्द,1,शरबत,6,शराब की दुकान,1,शर्बत,1,शर्म,3,शवयात्रा,1,शहद,1,शहनाज गिल,1,शादी,8,शादी की खरेदी,1,शादी की फ़िजूलखर्ची का बिल,1,शादी के सालगिरह की शुभकामनाएं,1,शादी-ब्याह,3,शायरी,9,शावर,1,शाहिद कपूर,1,शिक्षक दिन,2,शिक्षक दिवस पर शायरी,1,शिक्षा,6,शिमला मिर्च,1,शिवपुरी,1,शिवलिंग,1,शुद्ध शहद की पहचान,1,शुभ मुहूर्त,1,शुभ-अशुभ,4,शुभकामना संदेश,1,श्राद्ध,4,श्राद्ध का खाना,1,श्रीकृष्ण,3,श्रेष्ठता,1,संत निकोलस,1,संसद,1,संस्कार,1,संस्मरण,10,सकारात्मक पहल,2,सच बोलने की प्रेरणा,1,सजा मुझे क्यों,1,सतबीर ढिल्लो,1,सपना,2,सफलता,1,सफेद कीड़े,1,सफेद बाल,1,सब्जियों का अचार,1,सब्जियों की कांजी,1,सब्जी,23,समय,1,समाजसेवा,2,समाजिक,1,समाधान,1,समावत चावल,3,समोसा,1,सर के बाल,2,सलाद,2,ससुराल,3,सस्ते कपड़े,1,सहजन,1,सहजन/मुनगा की कढ़ी,1,सहशिक्षा,1,सांता क्लॉज,1,सांप,1,सांभर वडी,1,सांवला या काला रंग,1,साउथ इंडियन डिश,3,साक्षात्कार,5,सागर में ज्वार,1,सातवीं सालगिरह,1,साफ-सफाई,1,साबुदाना,3,साबुदाना के अप्पे,1,साबुदाना पापड़,2,साबुदाने लड्डू,1,साबुन,1,साबूदाना,3,साबूदाना खिचड़ी,1,साबूदाना वड़ा,1,सामाजिक,97,सामाजिक कार्यकर्ता,1,सालगिरह,7,सावन,2,सास,4,साहित्य,119,सिंगल पैरेंट,1,सिंदूर,1,सिध्दार्थ शुक्ला,1,सीएए,1,सीख-सुहानी,1,सीनू कुमारी,1,सुंदरता,1,सुई,1,सुखी,1,सुजी,1,सुप्रभात संदेश,1,सूजी,2,सूजी के पापड़,1,सूजी के लड्डू,2,सूप,1,सेनेटरी नेपकिन,1,सेब,2,सेब के छिलके,1,सेलिब्रिटी,1,सेलिब्रेटी,1,सेव मेरिट सेव नेशन,1,सेवई उपमा,1,सेहत,8,सैंडविच,1,सोच,1,सोनम वांंगचुक,1,सोलर हीटेड मिलिट्री टेंट,1,सोलो यूट्यूबर,1,सोशल मीडिया,1,सौंफ,1,सौंफ का शरबत,1,सौंफ प्रीमिक्स,1,सौतेली माता,1,स्कूल,2,स्टफ्ड आम पापड़,1,स्टफ्ड मैंगो रोल,1,स्टार्टर,1,स्टैच्यु ऑफ यूनिटी,1,स्त्री,2,स्नैक्स,64,स्वतंंत्रता दिन,1,स्वतंत्रता दिन,2,स्वयं से प्यार,1,स्वर्ग और नर्क,1,स्वाभिमान,1,स्वास्थ,2,स्वास्थ्य,23,स्वीट कॉर्न,1,स्वीट कॉर्न खीर,1,हंस,1,हनुमान जी,2,हरियाली तीज की शुभकामनाएं,1,हरी मटर,1,हरी मटर के पैनकेक,1,हरी मटर को कैसे स्टोर करें,1,हरी मिर्च,5,हरी मिर्च का अचार,1,हलवा,3,हांडवो,2,हाउसवाइफ,1,हाथी,1,हिंदी उखाणे,1,हिंदी उखाने,1,हिंदी कहानी,3,हिंदी दिवस,1,हिंदी शायरी,35,हिंदु,1,हेयर कलर,1,हैंड सैनिटाइजर,1,हैंडल,1,हैसियत,1,होटल,1,होममेकर,1,होली की शुभकामनाएं,1,होली रेसिपी,1,
ltr
item
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल: कहानी- बहू जैसा प्यार
कहानी- बहू जैसा प्यार
संगिता की सास ने उसे ये क्यों कहा कि वो उसे बेटी जैसा नहीं बहू जैसा ही प्यार देगी? उनके इस बात का संगिता पर क्या असर हुआ?
https://1.bp.blogspot.com/-EYQ9qjC5olI/XhKxMeHw_bI/AAAAAAAAORI/90gtWmzfHtIH9o77uHIa1IGbnjazlDdKwCLcBGAsYHQ/s320/bahu%2Bjaisa%2Bpyar.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-EYQ9qjC5olI/XhKxMeHw_bI/AAAAAAAAORI/90gtWmzfHtIH9o77uHIa1IGbnjazlDdKwCLcBGAsYHQ/s72-c/bahu%2Bjaisa%2Bpyar.jpg
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
https://www.jyotidehliwal.com/2020/01/kahani-bahu-jaisa-pyar.html
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/2020/01/kahani-bahu-jaisa-pyar.html
true
7544976612941800155
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy