क्या आज भी 'कन्यादान' के रस्म की जरुरत हैं?

यदि नारी को समाज में उसका उचित स्थान दिलाना हैं...यदि नारी एक वस्तु न होकर वो भी पुरुषों की तरह एक इंसान हैं...तो कृपया इस रस्म के बारे में एक बार सोचिएगा जरुर...

क्या आज भी 'कन्यादान' के रस्म की जरुरत हैं?
kya aaj bhi kanyadaan ke rasm ki jarurat hai? 

दोस्तों, जैसा कि मैंने अपनी एक पोस्ट "सकारात्मक पहल- एक विधवा ने किया अपनी बेटी का कन्यादान!!" में कहा था कि मैं कन्यादान के रस्म के बारे में चर्चा करूंगी...तो आज हम यह चर्चा करते हैं कि क्या आज भी 'कन्यादान' के रस्म की जरुरत हैं? इस सवाल का जवाब पाने के लिए हमें पहले यह जानना आवश्यक हैं कि 'दान' किसे कहते हैं? किसी भी चल-अचल संपत्ति के स्वामी द्वारा उस वस्तु के लिए कोई मूल्य लिए बगैर यदि वह वस्तु किसी अन्य को हस्तांतरित की जाती हैं, तो उसे 'दान' कहते हैं। यहां यह ध्यान देने योग्य हैं कि दान में दी जाने वाली वस्तु का पूर्ण स्वामित्व दान देने वाले के पास होना आवश्यक हैं। मतलब दान की जाने वाली वस्तु दानदाता की निजी संपत्ति हो यह अति आवश्यक हैं। दान में मिली वस्तुओं की कद्र नहीं होती शायद इसलिए ससुराल वाले बहुओ की कद्र नहीं करते क्योंकि दान में मिली है सो चाहे जैसा इस्तेमाल करे...वाली सोच व्याप्त हो जाती है। हर नारी की हार्दिक इच्छा रहती है कि उसे एक इंसान समझा जाए, वस्तु समझ कर उसका दान न किया जाय। लेकिन परिवार और समाज के आगे उसकी नहीं चलती। युधिष्ठिर, जिन्हें हम धर्मराज कहते है उन्होंने भी द्रोपदी को एक वस्तु समझ कर पांचों भाइयों में बांट लिया था! उनके इस कृत्य का वास्तव में व्यापक पैमाने पर विरोध होना चाहिए था। लेकिन नारी को वस्तु मानने की मानसिकता के कारण ही सब चुप रहे!! कई लोग कहते हैं कि माता सीता का भी कन्यादान हुआ था। यह रीत तो आदिकाल से चली आ रही हैं...फ़िर आज की नारी किस खेत की मूली हैं? मुझे एक बात बताइए, माता सीता की तो अग्निपरीक्षा ली गई थी...उन के चरित्र पर शक करके उन्हें गर्भावस्था में वन में भी छोड़ा  गया था...क्या आप इन बातों को सही मानते हैं? नहीं न! तो फ़िर सिर्फ़ कन्यादान की रस्म को माता सीता का हुआ था इस आधार पर सही कैसे मान सकते हैं?

आइए, अब कन्यादान के विभिन्न पहलुओं पर विचार करते हैं...

• कन्या वस्तु नहीं हैं!
दान किसी वस्तु का किया जाता हैं, इंसान का नहीं। हमारे संविधान में भी नारी-पुरुष समानता को मंज़ूरी दी हुई हैं। फ़िर कन्या का एक वस्तु की तरह दान कैसे किया जा सकता हैं? कन्या को सुखी और सुरक्षित ज़िंदगी सौंपने का मतलब यह कतई नहीं है कि उसे दान जैसे शब्द की सीमाओं में बांध कर उसकी गरिमा को कम किया जाए। 

• माता-पिता के पास पुत्री का पूर्ण स्वामित्व नहीं हैं!
यदि पुत्री को माता-पिता की संपत्ति मान लिया जाए तो इसका मतलब हुआ कि पिता को अपनी पुत्री का उपभोग करने का पूर्ण अधिकार हैं। किंतु ऐसी कल्पना भी करना हमारे लिए बिल्कुल असंभव, निंदनीय ही नहीं हैं तो समाजिक दृष्टी से भी यह महापाप हैं। इस दृष्टिकोण से पुत्री यदि पिता की निजी संपत्ति नहीं हैं तो पिता को क्या अधिकार हैं कि वो अपनी पुत्री का दान करें? वास्तव में माता-पिता कन्या का पालन-पोषण करते हैं इसलिए वे कन्या के पालक भर हैं, स्वामी नहीं। जब माता-पिता के पास कन्या का स्वामित्व ही नहीं हैं तो वे कन्या का दान कैसे कर सकते हैं?

• वर यह नहीं कहता कि मैं तुम्हें दानस्वरुप स्वीकार करता हूं।
शादी के वक्त अपनी होने वाली पत्नी से दिए गए सात वचनों में वर कहता हैं, ''तुम्हारी उपस्थिति मेरे लिए भगवान का आशीर्वाद जैसा हैं। तुम्हारे आने से मेरा जीवन पवित्र हो गया हैं। मैं यह वचन देता हूं कि इस संबंध को मैं पूरी निष्ठा, समर्पण और ईमानदारी के साथ निभाऊंगा।'' वर कहीं भी यह नहीं कहता कि मैं तुम्हें दानस्वरुप स्वीकार करता हूं। बल्कि वर समर्पण की बात करता हैं। क्या दान लेने वाला समर्पण की बात करेगा? जब दान लेने वाले ने दान लिया ही नहीं तो दान की क्रिया पूर्ण कैसे हुई? और जब दान की क्रिया ही पूरी नहीं होती तो कन्यादान करने के मायने ही क्या हैं?

• क्या दान में मिली पत्नी 'गृहस्वामिनी' हो सकती हैं?
वर को यदि वधु दान के रुप में प्राप्त होती हैं तो वह उसकी दासी हुई। किंतु हमारे यहां पत्नी को 'गृहलक्ष्मी' और 'गृहस्वामिनी' कहा जाता हैं। क्या हमने कभी इस विरोधाभास के बारे में सोचा हैं? पहले जब पत्नी पति को खत लिखती थी तो अंत में लिखती थी आपकी दासी! एक तरफ पत्नी खुद को ही दासी मानती हैं तो दूसरी तरफ पति उसे गृहस्वामिनी कहता हैं! एक ही समय में पत्नी दासी और गृहस्वामिनी दोनों कैसे हो सकती हैं? सबसे बड़ी गौर करने वाली बात यह हैं कि क्या दासी और स्वामी में प्यार और आत्मिक संबंध संभव हैं? पति-पत्नी का रिश्ता बहुत ही आत्मिक, पवित्र और जन्मजन्मांतर का होता हैं ऐसा हम मानते हैं। इतने पवित्र रिश्ते को दान शब्द से जोड़ कर क्या हम उसे कलुषित नहीं करते? दान शब्द के भीतर किसी वस्तू को मुफ़्त में पा जाने की जो खुशी है वह कन्या की गरिमा को कम करती है और उस संवेदनशीलता को धक्का पहुंचाती है जिसमें दो शरीर दो आत्माएं सारे बंधन तोड़ कर एक होना चाहती है।

• जब 'गौ-दान का मतलब गाय का दान' होता हैं, तो 'कन्यादान का मतलब कन्या का दान' क्यों नहीं होता?
कुछ लोगों का कहना हैं कि कन्यादान का मतलब कन्या का दान नहीं होता! कन्यादान का वास्तविक अर्थ हैं जिम्मेदारी को सुयोग्य हाथों में सौंपना। मतलब यह कि अब तक कन्या के भरण-पोषण, विकास, सुरक्षा इन सभी बातों की जिम्मेदारी कन्या के माता-पिता की थी, अब वह ज़िम्मेदारी वर की हो गई हैं। इस तरह कन्यादान का वास्तविक अर्थ हैं जिम्मेदारियों का हस्तांतरण। मैं इन लोगों से पूछना चाहती हूं कि जब गौदान याने गाय का दान, अन्नदान याने अन्न का दान, नेत्रदान याने नेत्र का दान और देहदान याने देह का दान होता हैं तो फ़िर सिर्फ़ कन्यादान का मतलब कन्या का दान कैसे नहीं हुआ? अब चूंकि कन्या कोई वस्तु नहीं हैं और पढ़े-लिखे लोगों ने इस शब्द पर आपत्ति दर्शाना चालू कर दिया हैं इसलिए ये लोग कन्यादान को कन्या का दान न मानते हुए जिम्मेदारियों का हस्तांतरण कह रहे हैं।

• संविधान ने नारी को इंसान समझा हैं।
हमारे संविधान ने भी नारी को एक इंसान समझा हैं न की कोई दान देने योग्य वस्तु! इसलिए ही शादी के बाद भी कानूनन पिता की संपत्ति में बेटी का अधिकार होता हैं। क्या किसी दान में दी गई या ली गई वस्तु को इस तरह का कोई अधिकार मिल सकता हैं? कितने विरोधाभासों के बीच जीते हैं हम! एक तरफ हम बेटी और बेटा को एक समान कहते है इन्हें संपत्ति में समान अधिकार देते हैं और दूसरी ओर बेटी को वस्तु समझ कर दान भी कर देते हैं। 

• आज की नारी खुद की ज़िम्मेदारी खुद उठा सकती हैं।
चलिए, हम एक बार यह मान भी ले कि कन्यादान का मतलब जिम्मेदारियों का हस्तांतरण! तो प्राचीन काल में महिलाओं का कार्यक्षेत्र घर की चारदिवारी तक सीमित होने से और उनकी अपनी कोई आय नहीं होने से जिविकोपार्जन हेतु वे पुरुषों पर आश्रित थी। अत: उनकी ज़िम्मेदारी का हस्तांतरण ज़रुरी था। लेकिन आज की नारी तो अपनी ज़िम्मेदारी खुद उठा सकती हैं फ़िर यह ज़िम्मेदारी का हस्तांतरण क्यों? वैसे भी कोर्ट मैरेज में कन्यादान नहीं होता फ़िर भी वो शादी वैध कहलाती हैं न! तो फ़िर नारी को एक वस्तु मान कर अपमानित करनेवाली इस रस्म की आज भी जरुरत क्यों हैं?

यदि नारी को समाज में उसका उचित स्थान दिलाना हैं...यदि पुरुष और नारी को हम संसार रुपी रथ के दो पहिए मानते हैं...यदि नारी एक वस्तु न होकर वो भी पुरुषों की तरह एक इंसान हैं...तो कृपया इस रस्म के बारे में एक बार सोचिएगा जरुर...

Keywords: kanyadaan, women empowerment in hindi, superstitious beliefs, blind belief, religious, nari, 

COMMENTS

BLOGGER: 25
  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (11-03-2017) को "फूल और व्यक्ति" (चर्चा अंक-2906) (चर्चा अंक-2904) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद, आदरणीय शास्त्री जी।

      हटाएं
    2. बेनामी24/4/18, 4:05 pm

      aap daan ka vaastvik arth hi nhi jaanti ...daan Khushi ka hota h naa ki cheezon kaa...

      हटाएं
  2. बहुत अच्छी जानकारी

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहोत ही महत्वपूर्ण मुद्दा है ये , ऐसी Sensitive issues पे बात करना या सवाल उठाना आसान नाही होता,आपकी साहस को Salute.
    I am totally agree with the points you have covered here. These are very much logical.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Bilkul sahi kaha aapne.ham bas koi bhi pratha sadiyo se chali aa rahi hai isiliye karte jate hai.uske piche karne ka logic nahi dekhte.ek bahut hi vicharniya mudda hai ye.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कन्या न दान देने की वस्तु है न ही उसका हस्तांतरण ही उचित है ....कई बार वह मायके में ही आर्थिक सहयोग भी करती है....
    महत्वपूर्ण विषय पर विचारणीय आलेख....
    बहुत सुन्दर सार्थक पहल....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेनामी11/3/18, 8:53 pm

    Great Blog Post.Thanks for publishing. I hope you will like my tourism post about Mussoorie http://www.indiatourfood.com/2018/03/india-backpacking-adventuretraveling-mussoorie-hillstation-centralindia.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत शानदार लेख ज्योति जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन दांडी मार्च कूच दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आदरणीय ज्योति जी नमस्कार
    आपके लेख सरहानीय एवं , विचारणीय हैं
    वास्तव में
    आज के युग में स्त्री ,पुरुष के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है ,समस्त समाजिक ज़िम्मेवारियाँ सम्भाल रही है
    क्या वास्तव में इस युग में कन्यादान की आव्य्श्कता है
    कन्या दान का नहीं अभिमान का विषय है ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सॉरी, आपकी टिप्पणी गलती से हट गई हैं।

      हटाएं
  11. जिस तरह से आप ने कन्यादान को कटघरे में खड़ा किया
    बहुत जल्द शादी जैसा बंधन भी अन्याय लगने लगेगा।
    क्या जरूरत है इस बंधन की गुलाब का शौक रखनेवाले काँटों से नहीं डरते।
    इस तरह तो कागज पर लिखित विवाह भी करारनामा ही है जैसे प्रॉपर्टी का किया जाता है।
    शादी जैसे पवित्र बंधन की उत्पत्ती विद्वानों द्वारा की गई और
    उनकी सोच पर प्रश्न चिन्ह लगा कर आज समाज खुद को महाविद्वान साबित कर रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नीतु जी,आज समाज में विवाह के कारण ही परिवार जैसी संस्था टिकी हुई हैं। उसके औचित्य पर सवाल ही नहीं उठा सकते। यदि विवाह की रस्म ही नहीं हुई तो हमारा सामाजिक ढाचा पूरी तरह चरमरा जाएगा।
      मैंने यह कभी नहीं कहा कि हमारी सभी पुरानी परंपराए गलत हैं। जो आज के समय के अनुसार सही हैं उनका हमें पालन करना चाहिए औए जो सही नहीं हैं उन्हें समयानुसार या तो फेरबदल करना चाहिए या बंद करना चाहिए।

      हटाएं
    2. लड़की कुदरत की सबसे नायाब देन है
      लड़की को लोग पराई अमानत समझकर ही पालते है
      और कन्यादान करके माँ बाप उस ऋण से मुक्त होते है
      उनका यह अधिकार नहीं छीनना चाहिए

      हटाएं
  12. महत्वपूर्ण विषय पर सुन्दर सार्थक पहल ।
    धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. नमस्कार ज्योति जी...जिस विषय को आपने चिन्हित किया उसका जीता जागता उदाहरण हूँ मैं। आज से 30 साल पहले मैंने स्वयं की शादी में अपना कन्यादान होने से रोका था। एक लड़की वस्तु नहीं है कि उसका दान किया जाए। मैं पूर्णतया आपसे सहमत हूँ। आपको बहुत बहुत साधुवाद
    नीतू ठाकुर जी...हमारे रीति रिवाज एवं परम्पराएं समाज को सुचारु रूप से चलाने के लिए बने थे किन्तु वो जब बनाए गए होंगे तब उस समय की परिस्थिति, वातावरण एवं समय की क्या आवश्यकता रही होगी ये तो हम लोग नहीं जानते। ये तो प्रकृति का शाश्वत नियम है जो आज है वो कल नहीं रहेगा। क्या आज के परिप्रेक्ष में नारी को वस्तु के रूप में स्वीकार किया जा सकता है ? अगर ऐसा है तो फिर इसका तात्पर्य तो यही निकलता है कि नारी आज भी मात्र एक वस्तु है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. नीलिमा जी, आज से 30 साल पहले आपने इतना हौसला दिखाया इसके लिए सचमुच आप बधाई की पात्र हैं। मैं आपके साहस की दाद देती हूं। बहुत बढ़िया।

    उत्तर देंहटाएं
  15. धन्यवाद ज्योति जी ...इस दिशा में प्रयास निरन्तर जारी है। सागर में बूंद बराबर सफलता भी मिली है। हौसला अफज़ाई के लिए शुक्रिया
    अगर समय मिले तो मेरे blog पर ज़रूर आईएगा।
    https//:neelimakumar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं

नाम

'रेप प्रूफ पैंटी',1,#मीटू अभियान,1,15 अगस्त,3,26 जनवरी,1,8 मार्च,1,अंकुरित अनाज,1,अंगदान,1,अंगुठी,1,अंगूर,1,अंगूर की लौंजी,1,अंगूर की सब्जी,1,अंग्रेजी,2,अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस,3,अंतरराष्ट्रीय वृद्धजन दिवस,1,अंधविश्वास,10,अंधश्रद्धा,8,अंधश्रध्दा,2,अंश,1,अग्निपरीक्षा,1,अग्रवाल,1,अचार,7,अच्छी पत्नी,1,अच्छी पत्नी चाहिए तो...,1,अच्छे काम,1,अजब-गजब,2,अतित,1,अदरक,1,अदरक का चूर्ण,1,अदरक-लहसुन पेस्ट,1,अनमोल वचन,10,अनुदान,1,अनुप जलोटा,1,अन्न,1,अन्य,23,अन्याय,1,अपेक्षा,1,अप्पे,4,अमरुद,1,अमरूद की खट्टी-मीठी चटनी,1,अमीरी,1,अमेजन,1,अरुणा शानबाग,1,अरुनाचलम मुरुगनांथम,1,अवार्ड,2,असली हीरो,13,अस्पतालों में बच्चों की मौत,1,आंवला,3,आंवला चटनी,1,आंवला लौंजी,1,आइसक्रीम,1,आईसीयू ग्रेंडपा,1,आज के जमाने की अच्छाइयां,1,आजादी,2,आज़ादी,1,आतंकवादी,2,आत्महत्या,3,आत्मा,1,आदित्य तिवारी,1,आम,9,आम का अचार,1,आम का पना,2,आम का मुरब्बा,2,आम की बर्फी,1,आम पापड़,1,आरक्षण,1,आलू,1,आलू पोहा अप्पे,1,इंसान,2,इंस्टंट डोसा,1,इंस्टंट स्नैक्स,1,इंस्टट ढोकला,1,इंस्टेंट कुल्फी,1,इडली,3,इन्डियन टाइम,1,इमली,1,इरोम शर्मिला,1,ईद,1,ईश्वर,6,ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना,1,उटी,1,उपमा,1,उपवास,1,उपवास की इडली,1,उपहार,2,उमा शर्मा,1,ऋषि पंचमी,1,एक सवाल,1,ऐनी दिव्या,1,ऐश ट्रे,1,ऑनलाइन,1,और इज्जत बच गई,1,कंघा,1,कंसन्ट्रेट आम पना,1,कच्चे आम,1,कच्चे आम का चटपटा पापड़,1,कटलेट्स,1,कद्दु,1,कद्दु के गुलगुले,1,कन्यादान,3,करवा चौथ शायरी,1,करवा-चौथ,3,कल्याणी श्रीवास्तव,1,कहानी,15,कांजी,1,कानून,1,कामवाली बाई,4,कालीन,1,किचन टिप्स,13,किटी पार्टी,1,किराए पर बीवियां,1,कुंडली मिलान,1,कुरकुरे,1,कुल्फी,1,कुल्फी प्रीमिक्स,1,कूकर,1,केईएम् अस्पताल,1,कॉर्न,4,कॉर्न इडली,1,कौए,1,क्षमा,2,खजूर,1,खत,5,खबर,3,खरबूजा,2,खरबूजे का शरबत,1,खांडवी,1,खाद्य पदार्थ,1,खाना,1,खारक,1,खारी गरम,1,खुले में शौच,1,खुशी,2,खेल,1,गणतंत्र दिवस,1,गणेश चतुर्थी पर शायरी,1,गणेश चतुर्थी प्रसाद रेसिपी,1,गरम मसाला,1,गर्दन दर्द,1,गर्भावस्था,1,गर्भाशय,1,गलत व्यवहार,1,गलती,2,गाजर,4,गाजर अप्पे,1,गाजर के लड्डू,1,गाजर-मूली के दही बडे,1,गाय,1,गुजरात,1,गुड टच और बैड टच,2,गुलगुले,1,गुस्सा,1,गृहस्वामिनी,1,गैस बर्नर,1,गोरखपुर,1,गोरा रंग,1,गोल्फ,1,गौरी पराशर,1,घंटी,1,घिया,1,घी,1,घी की नदी,1,चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण शक्ति,1,चकली,1,चटनी,7,चाँद पर जमीन,1,चाय,1,चाय मसाला,1,चावल,2,चावल के पापड़,1,चाशनी,1,चीज,1,चीला,2,चूर्ण,4,छाछ,1,छींक,1,छोटी बाते,1,छोटे लेकिन काम के टिप्स,2,छोटे-छोटे काम के टिप्स,2,जज्बा,2,जनसंख्या,1,जन्मदिन,3,जन्मदिन की शुभकामनाएं,2,जन्माष्टमी,2,जमाना,1,जलेबी,1,जाट आंदोलन,1,जात-पात,1,जाति,1,जाम,1,जिंदगी,1,जीएसटी,1,जीरो ऑइल रेसिपी,5,जोक्स,5,जोयिता मंडल,1,ज्वार की रोटी,1,ज्वेलरी,1,झारखंड,1,झाले-वारणे,2,झूठ,1,टिप्स कॉर्नर,27,टी.व्ही. और सिनेमा,1,ठंडे पेय,6,ठेचा,1,डर,1,डैंड्रफ,1,डॉक्टर,2,डॉटर्स डे,2,ढाबा स्टाइल सब्जी,1,ढोकले,1,तरबूज,2,तरबूज के छिलके का हलवा,1,तलाक,1,ताजे नारियल की बर्फी,1,तिल,2,तिल की कुरकुरी चिक्की,1,तिल के लड्डू,1,तेलंगाना,1,तोहफ़ा,1,थंडा पानी,1,दक्षिणा,1,दवा,1,दही,5,दही सैंडविच,1,दहेज,3,दाग-धब्बे,1,दान,1,दासी,1,दिपावली बधाई संदेश,3,दिशा,1,दीपावली शुभकामना संदेश,1,दीवाली रेसिपी,1,दुध पावडर,1,दुर्गा माता,1,दुल्हा,1,दुश्मन,1,दूध,2,देशभक्ति,3,देशभक्ति शायरी,2,देहदान,1,दोस्त,2,धनिया,1,धर्म,2,धर्मग्रंध,1,धार्मिक,26,नदी में पैसे,1,नन्ही परी,1,नमक पारे,1,नमकीन,1,नवरात्र,1,नवरात्र स्पेशल,2,नवरात्रि,1,नवरात्री रेसिपी,5,नववर्ष,2,नववर्ष की शुभकामनाएं,2,नाइंसाफी,1,नानी,1,नारियल बर्फ़ी,1,नारी,45,नारी अत्याचार,10,नारी शिक्षा,1,नाश्ता,1,निंबु का अचार,1,निचली जाती,1,निर्णयक्षमता,1,निर्भया,2,निवाला,1,नींबू,1,नीडल थ्रेडर,1,नेत्रदान,1,नेपाल त्रासदी,1,नेल आर्ट,1,न्याकिम गैटवेच,1,पकोडे,2,पक्षी,1,पढ़ा-लिख़ा कौन?,1,पढ़ाई,1,पति,1,पति का अहं,1,पति-पत्नी,1,पत्ता गोभी,1,पत्ता गोभी की मुठिया,1,पत्नी,1,पत्र,1,पपीता,1,परंपरा,2,परवरिश,5,पराठे,1,परीक्षा,2,परेशानी,1,पल्ली उत्सव,1,पवित्र,1,पवित्रता,2,पसंदीदा शिक्षक को पत्र,1,पानी,1,पानी कैसे पीना चाहिए,1,पापड़,3,पालक,1,पालक के नमक पारे,1,पालक बडी,1,पाश्चात्य संस्कृति,1,पिता,2,पुण्य,1,पुरानी मान्यताएं,1,पुलवामा हमला,1,पूडी,1,पेढे,1,पैड्मैन,1,पैनकेक,1,पैरेंटीग,1,पोर्न मूवी,1,पोषण,1,पोहा,1,पोहे के कुरकुरे,1,प्याज,3,प्याज की चटनी,1,प्यार,1,प्यासा कौआ,1,प्रत्यूषा,1,प्रद्युम्न,1,प्रसन्न,1,प्राणियों से सीख,1,प्री वेडिंग फोटोशूट,1,फर्रुखाबाद,1,फलाहार,1,फल्लिदाने,1,फादर्स डे,2,फूल गोभी के परांठे,1,फेसबुक,2,फैशन,1,फ्रिज,1,फ्रेंडशीप डे,1,फ्रेंडशीप डे शायरी,1,बकरीद,1,बची हुई सामग्री का उपयोग,1,बच्चे,7,बच्चे की ज़िद,1,बच्चें,1,बछबारस,1,बटर,1,बड़ा कौन?,1,बढ़ती उम्र,1,बदला,1,बधाई संदेश,4,बरबादी,1,बर्फी,2,बलात्कार,8,बहू,2,बाजरा,1,बाल शोषण,2,बाहर का खाना,1,बिल्ली के गले में घंटी,1,बुढ़ापा,1,बुलंदशहर गैंगरेप,1,बेटा,1,बेटा पढाओ,1,बेटी,7,बेटी बचाओ अभियान,2,बेसन,2,बैंगन,1,बोझ,1,ब्रेकअप,1,ब्रेड,4,ब्रेड की रसमलाई,1,ब्रेड पकोडा,1,ब्रेड पिस्ता पेढे,1,ब्लॉगअद्दा एक्टिविटी,1,ब्लॉगर ऑफ द इयर 2019,1,ब्लॉगर्स रिकोग्निशन अवार्ड,1,ब्लॉगिंग,5,ब्ल्यू व्हेल गेम,1,भक्ति,1,भगर,3,भगर की इडली,1,भगर के उत्तपम,1,भगर के कटलेट,1,भगवान,3,भजिए,1,भरवां मिर्च,1,भाई दूज शायरी,1,भाकरवड़ी,1,भाभी,1,भारत,1,भारतीय मसाले,1,भुट्टे के पकोड़े,1,भूकंप,1,भोजन,1,भ्रुण हत्या,1,मंदसौर गैंग रेप,1,मंदिर,2,मंदिरों में ड्रेस कोड़,1,मंदिरों में दक्षिणा,1,मकई,4,मकई उपमा,1,मकई चीला,1,मकई पकोडे,1,मकर संक्रांति,2,मकर संक्रांति की शुभकामनाएं,1,मकर संक्राति,1,मटर,3,मटर के अप्पे,1,मठ्ठा,1,मदर्स डे,3,मम्मी,1,मलाई,2,मलाई फ्रूट सलाद,1,मसाला छाछ,1,महानता,1,महाराजा अग्रसेन जी,1,महिला आजादी,1,महिला आरक्षण,1,महिला सशक्तिकरण,4,महिला सुरक्षा,1,महिलाओं का पहनावा,1,माँ,3,माता यशोदा,1,मातृभाषा,1,मायका,2,मारवाड़ी,1,मार्केट जैसे साबूदाना पापड़,1,माला,1,मावा कुल्फी,1,मासिक धर्म,2,माहवारी,3,मिठाई,18,मित्र,2,मिलावट,1,मिलावट पहचानने के घरेलू तरीके,1,मिस इंडिया 2019,1,मुक्ति,1,मुबारकपुर कला,1,मुरब्बा,1,मुस्लिम मंच,1,मुहूर्त,1,मूंग की सूखी दाल का हलवा,1,मूंगफली,1,मूंगफली की सूखी चटनी,1,मूली,3,मूली का अचार,1,मूली के पत्तों के कुरकुरे कटलेट्स,1,मेंस्ट्रुअल कप,1,मेंहदी,6,मेडिसिन बाबा,1,मेथी,1,मेथी दाना चुर्ण,1,मेथी मटर मलाई,1,मेनु,1,मेरा मंत्र,3,मेरा सपना,1,मेरी बात,15,मैंगो फ्रूटी,1,मैंगो श्रीखंड,1,मैनर्स,1,रंग,1,रंग पंचमी,1,रक्तदान,1,रक्तदान के फायदे,1,रक्षाबंधन,1,रक्षाबंधन शायरी,1,रजस्वला नारी,3,रवा इडली,1,रसोई,96,रांगोली,3,राखी,1,राजभाषा,1,राजस्थानी समाज,2,राम रहीम,1,राशी-भविष्य,1,राष्ट्रगान,1,राष्ट्रगीत,1,राष्ट्रभाषा,1,रिती-रिवाज,1,रीतिरिवाज,1,रुपया-पैसा,1,रेणुका मिश्रा,1,रोटी,2,रोस्टेड मूंगफली,1,लघुकथा,10,लड्डू,2,लहसुन,1,लाइटर,1,लाल मिर्च की सूखी चटनी,1,लीव इन रिलेशनशिप,1,लेसुए,1,लॉटरी,1,लोकल ट्रेन,1,लोकसभा चुनाव,1,लोग क्या कहेंगे?,1,लौंजी,1,लौकी,2,लौकी का हलवा,1,लौकी की बड़ी,1,वक्त,1,वटसावित्री व्रत,1,वर,1,वर्जिनिटी टेस्ट,1,वर्तमान,1,वारी के हनुमान,1,विधवा,1,विधवा ने किया कन्यादान,1,विधवा विवाह,1,विशाखापट्टनम रेप कांड,1,वृंदावन,1,वृद्धावस्था,1,वेजिटेबल डोसा,1,वेजिटेबल पैनकेक,1,वैलेंटाइन डे,1,वोट,1,वोट की किंमत,1,व्यंग,11,व्यायाम,1,व्रत,2,व्रत रेसिपी,15,व्रत स्पेशल,2,शकरकंद,1,शकरकंद की जलेबी,1,शकुन-अपशकुन,1,शक्करपारे,1,शनि देव,1,शब्द,1,शरबत,4,शर्बत,1,शर्म,2,शादी,5,शादी की खरेदी,1,शादी की फ़िजूलखर्ची का बिल,1,शादी के सालगिरह की शुभकामनाएं,1,शादी-ब्याह,3,शायरी,9,शिक्षक दिन,1,शिक्षा,5,शिवपुरी,1,शुभ मुहूर्त,1,शुभ-अशुभ,3,शुभम जगलान,1,श्राद्ध,3,श्राद्ध का खाना,1,श्रीकृष्ण,2,श्रेष्ठता,1,संस्कार,1,संस्मरण,9,सकारात्मक पहल,2,सच बोलने की प्रेरणा,1,सतबीर ढिल्लो,1,सपना,1,सफेद बाल,1,सब्जियों का अचार,1,सब्जियों की कांजी,1,सब्जी,4,समय,1,समाजसेवा,2,समाजिक,1,समाधान,1,समावत चावल,2,सर के बाल,1,सलाद,1,ससुराल,2,सहशिक्षा,1,सांवला या काला रंग,1,साउथ इंडियन डिश,2,साक्षात्कार,3,सागर में ज्वार,1,साफ-सफाई,1,साबुदाना,2,साबुदाना के अप्पे,1,साबुदाना पापड़,2,साबुदाने लड्डू,1,साबूदाना,2,सामाजिक,63,सामाजिक कार्यकर्ता,1,सालगिरह,5,सास,2,साहित्य,79,सिंगल पैरेंट,1,सिंदूर,1,सीख-सुहानी,1,सीनू कुमारी,1,सुंदरता,1,सुई,1,सुखी,1,सुजी,1,सूजी,1,सूजी के लड्डू,1,सेनेटरी नेपकिन,1,सेब,1,सेलिब्रेटी,1,सेवई उपमा,1,सेहत,1,सैंडविच,1,सौंफ,1,सौंफ का शरबत,1,सौंफ प्रीमिक्स,1,सौतेली माता,1,स्कूल,1,स्त्री,2,स्नैक्स,30,स्वतंंत्रता दिन,1,स्वतंत्रता दिन,2,स्वर्ग और नर्क,1,स्वाभिमान,1,स्वास्थ,2,स्वास्थ्य,10,हंस,1,हनुमान जी,2,हरी मटर के पैनकेक,1,हरी मिर्च,3,हरी मिर्च का अचार,1,हलवा,3,हाउसवाइफ,1,हाथी,1,हिंदी उखाणे,1,हिंदी उखाने,1,हिंदी दिवस,1,हिंदी शायरी,22,हैंडल,1,होटल,1,होममेकर,1,होली की शुभकामनाएं,1,
ltr
item
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल: क्या आज भी 'कन्यादान' के रस्म की जरुरत हैं?
क्या आज भी 'कन्यादान' के रस्म की जरुरत हैं?
यदि नारी को समाज में उसका उचित स्थान दिलाना हैं...यदि नारी एक वस्तु न होकर वो भी पुरुषों की तरह एक इंसान हैं...तो कृपया इस रस्म के बारे में एक बार सोचिएगा जरुर...
https://3.bp.blogspot.com/-mAelibXZQUE/Wovxq_Rr8yI/AAAAAAAAGzk/x9yRdFj7EtQSlhPNC78O4p_Efa2t2J96wCLcBGAs/s320/kanyadaan.jpg
https://3.bp.blogspot.com/-mAelibXZQUE/Wovxq_Rr8yI/AAAAAAAAGzk/x9yRdFj7EtQSlhPNC78O4p_Efa2t2J96wCLcBGAs/s72-c/kanyadaan.jpg
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
https://www.jyotidehliwal.com/2018/03/kya-aaj-bhi-kanyadaan-ke-rasm-ki-jarurat-hai.html
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/2018/03/kya-aaj-bhi-kanyadaan-ke-rasm-ki-jarurat-hai.html
true
7544976612941800155
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy