व्यंग- पैदा करेंगी आम जनता...पालेंगी सरकार...!!

जब भारत सरकार जन्म के पहले से लेकर मृत्यु के बाद तक हर कदम पर, हर तरह की सरकारी सहायता कराने के लिए वचनबद्ध है, तो भारत की आबादी दिन दूनी रात चौगुनी गती से क्यों नहीं बढ़ेंगी!!!

                                 पैदा करेंगी आम जनता...पालेंगी सरकार...!!
क्या आपको पता है कि हमारे देश की जनसंख्या लगातार क्यों बढ़ रही है? कुछ ही वर्षों में जनसंख्या के मामले में हम विश्व में नंबर वन क्यों बन जायेंगे? तो इसका मुख्य कारण है, हमारी सरकार! हमारे देश की सरकारी नीतियाँ!! आप कहेंगे कि सरकार का और जनसंख्या बढ़ने का क्या संबंध है? बिल्कुल सीधा सा संबंध है। हमारे देश की आम जनता को, बच्चों को पालने के लिए कोई मेहनत नहीं करनी पड़ती। या यु कहिए, हमारे देश में आम जनता बच्चे पैदा करती है और बच्चों को पालती सरकार है!!

ऐसे लोगों के लिए सरकार हर बरस करोड़ों रुपए सब्सिडी के रुप में खर्च कर रहीं है, जो पांच-पांच, दस-दस तक बच्चे पैदा कर रहे है और अपने कर्मों से गरीब है। सरकारी सहायता से ही ये गरीब, ग़रीबों की फौज बढ़ा रहे है! जबकि आयकर भरनेवाले एक या दो बच्चों के माँ-बाप को, राशन की चीनी या मिट्टी के तेल से भी महरुम किया जाता है! खुद देश के जन प्रतिनिधि नहीं चाहते कि आबादी कम हो क्योंकि आज पैदा हुआ एक बच्चा 18 वर्ष बाद उनका वोटर बनेगा।

बच्चा पैदा होने के बाद ही नहीं, बच्चा पैदा होने के पहले ही “जननी सुरक्षा योजना के तहत संस्थागत प्रसव होने पर प्रसुताओं को प्रसव के दौरान एवं प्रसवोत्तर देखभाल हेतु आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाती है। इसके अंतर्गत गर्भवती महिलाओं को प्रसव पुर्व तीन बार जांच, टीटेनस के टीके लगवाने एवं आयरन फोलिक एसिड की गोलियां उपलब्ध करवाने में केंद्र सरकार सहयोग करती है। सरकारी अस्पतालों मे प्रसव कराने वाली प्रसुती को अस्पताल से छुट्टी मिलते ही ग्रामीण क्षेत्रों में चौदह सौ रुपए और शहरी क्षेत्रों में एक हजार रुपए की सहायता राशि दी जाती है। इस प्रकार बच्चा पैदा होते ही उसकी माँ को सरकारी सहायता उपलब्ध करवाकर ये बता दिया जाता है कि जीवन की हर मुश्किल में भारत सरकार उसके साथ है।

बच्चा तीन साल का होते ही “महिला बाल विकास” मंत्रालय बच्चे को स्वस्थ बनाने में अपनी जिम्मेदारी निभाकर बच्चे के माता-पिता को फील गुड करा देता है। इसके बाद प्राथमिक शिक्षा विभाग बच्चे को गोद लेने की जिम्मेदारी निभाता है। “सर्व शिक्षा अभियान” के तहत जब तक बच्चा 14 साल का नहीं होता तब तक सभी बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा दी जाती है। “मध्यान्ह भोजन योजना” के अंतर्गत कक्षा 1 से 5 तक, 15 अगस्त 1955 से प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ने वाले सभी बच्चों को 80 प्रतिशत उपस्थिति पर प्रतिमाह 03 किलोग्राम गेहूं या चावल दिए जाते थे। लेकिन यह खादान्य परिवार के लोगों में बट जाने के कारण 01 सितंबर 2004 से प्राथमिक विद्यालयों में पका-पकाया भोजन उपलब्ध कराया जाता है। मतलब 14 साल तक बच्चे की पढ़ाई-लिखाई, खाने-पीने की सभी व्यवस्था सरकार ही करेगी!

इन सब मुफ्त की योजनाओं के सहारे बच्चा कब 8 वी पास कर लेता है, माता-पिता को पता ही नहीं चलता! गरीब ग्रामीण बच्चों को उपकृत करने के लिए माध्यमिक शिक्षा विभाग भी 12 वी पास करवा कर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर लेता है। यदि बच्चा पढ़ाई में अच्छा है और ओबीसी, एससी आदि आरक्षित कोटे से आता है तो केंद्र की प्रतियोगी परिक्षाओं की पूरी कोचिंग फ़ीस अब केंद्र सरकार वहन करती है। जो बच्चे पढ़ाई में कमजोर है, ऐसे बच्चों को ग्रॅज्युएशन करवाने के लिए सरकार उन्हें स्कॉलरशीप देकर पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करती है। अब बारी आती है बेरोजगारी भत्ते की, जिसके सहारे दो-तीन साल आराम से कट जाते है। और युवाओं के छोटे-मोटे शौक भी पूरे हो जाते है। ऐसे युवा सरकार का बदला चुकाने के लिए उसकी जन सभाओं में जोर-शोर से हिस्सा लेते है एवं अपनी सारी शक्ति नेताजी की प्रतिष्ठा बढ़ाने में लगा देते है। जो युवा कम सक्रिय है, उनके लिए सरकार ने “मनरेगा” नाम की एक योजना का अविष्कार किया है। जिसके अंतर्गत इस योजना से जुडे सभी अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों को 100 दिन के लिए मुफ्त के सेवक मिल जाते है। कभी-कभी सोचने पर मजबूर हो जाती हूं कि 18 साल तक एड़ी-चोटी का जोर लगाकर, इतने पैसे खर्च कर कर भारत सरकार ऐसे कुशल कामगारों का निर्माण करती है, जो मनरेगा जैसी योजनाओं में साल में सिर्फ 100 दिन काम कर कर अपने-आप को धन्य समझते है! और सरकार भी इन्हें काम देकर अपनी पीठ थपथपाती है!! अब यदि कोई 100 दिन काम करकर भी जीवनयापन न कर सके तो, सरकार उन्हें मुफ्त सरकारी राशन, सब्सिडी वाला रसोई गैस, शौचालय बनाने के लिए सरकारी मदद और “इंदिरा आवास योजना” अंतर्गत मुफ्त घर देती है।  चुनाव के समय तो इन लोगों की चांदी ही चांदी रहती है! मुफ्त में साड़ी, कंबल एवं दारू भी मिल जाती है। कई बार तो वोट के एवज में, नोटों से इनकी जेब तक भरी जाती है। इतना ही नहीं, हमारी सरकार तो जीवन के अंत समय में भी इनका साथ देती है। केंद्र या राज्य सरकार के किसी मजदूर की मृत्यु पर उसके अंतिम संस्कार के लिए भी सरकार आर्थिक सहायता देती है! 

ऐसी और भी बहुत सारी योजनाएं केंद्र और राज्य सरकार द्वारा चलाई जाती है जिनका उल्लेख यहां पर नहीं किया गया है। तो मेरे देशवासियों, अब आप ही बताइए, जब भारत सरकार जन्म के पहले से लेकर मृत्यु के बाद तक हर कदम पर, हर तरह की सरकारी सहायता कराने के लिए वचनबद्ध है, जनता को सिर्फ बच्चे पैदा भर करना होता है, बच्चों को पालने की जिम्मेदारी पूरी तरह से भारत सरकार निभाती है, तो भारत की आबादी दिन दूनी रात चौगुनी गती से क्यों नहीं बढ़ेंगी!!!

Keywords: population, government grants, grant

COMMENTS

BLOGGER: 26
  1. wah jyoti ji...aapne to bahut acche topic par likha hai....aapke har ek shabd se me sehmat hu.....yahi baat mere dimag me pichle 3 saal se hai ki hamari sarkaar logo ki help nahi kar rahi balki unhe nithalla bana rahi hai....jin baccho ki jimmedari parents par honi chaiye unhe sarkar utha rahi hai, jin baccho ki bajah se un baccho ka pita kuch work karta lekin ab veh free hai kyoki sarkar bacche ke liye sab kuch free me kar rahi hai....aur is prakar desh me garibi bhi bad rahi hai kyoki sarkar baccho ko doctor ya advocate to banati nahi balki ek majdoor bana kar chor deti hai....aur baad me deti hai 100 din rojgar ki garantee...yani 365 me keval 100 din yani veh keval jinda reh sake aur sarkar ko vote de sake.....me nafrat karta hu ese syestem se...dhanyavad aapka ki vyangya hi sahi lekin aapne baat bahut sacchi kahi hai.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. Jyoti Dehliwal ji आपने अपने आलेख में सरकार का और जनसंख्या बढ़ने का संबंध पर एक सुन्दर विचार आया है जिससे लोगों को गलत-सही का आकलन करने में मदद मिल सकती है|हम यहा सन १९९१ में भारत के विभन्न प्रान्तों की जनसख्या यदि भारत और पड़ोसी देश गोरखपुर से प्रकाशीत पस्तक से देना समूचित है -उत्तरप्रदेश १३९१ लाख में , बिहार८६४ ,पश्चिम बंगाल ६८१ ,महाराष्ट्र ७८९ ,आन्ध्र प्रदेश ६६५ ,मध्यप्रदेश ६६२ ,तमिलनाडु ५६९,कर्नाटक ४५० ,राजस्थान ४४०,गुजरात ४१३,उड़िसा ३१७,केरल २९१ ,असम २२४ ,पंजाब २०३ हरियाणा १६५ ,दिल्ली ९४ जम्बू-कश्मीर ७७ ,हिमांचल प्रदेश ५२ त्रिपुरा २८ मणिपुर १८ मेघालय १८ नागालैड१२, गोवा ११ ,अरुणांचल प्रदेश ८, पान्दुचेरी ८, मिजोरम ७, चंडीगढ़ ६,सिक्किम ४,अंडमान ३,दादर नगर हवेली १,और दमन -दीव में एक लाख जनसंख्या का आकडा रहा है |
    बहुत सारी योजनाएं केंद्र और राज्य सरकार द्वारा चलाई जाने वाली बहुत सारी योजनाओं का आकलन भी समुचित नहीं हो पाने से केवल मेज थपथपाने जैसी दिखती हैं |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुखमंगल जी, इस लेख में मेरा कहने का तात्पर्य यह नहीं है कि कौन से राज्य की जनसंंख्या कितनी है! मैं सिर्फ यह बताना चाहती हूं कि हमारी सरकार खैरात में जनता को बहुत सारा बांंटती है जिससे जनता का भला होने की बजाय वो ज्यादा निक्कमी होती है। बच्चे पालने में आम जनता को कठिनाई न होने से वो ज्यादा बच्चे पैदा करती है ताकि उन्हें और ज्याद सब्सिडी मिलें! इन सब्सिडीयों के बदले यदी सरकार रोजगार दे तो वस्तव में जनता का भला हो सके!

      हटाएं
    2. Jyoti Dehliwal ji बहुत सही आप का सुझाव है |रोजगार पर विचार तो पहले की सरकारें भी करती रहीं परन्तु तत्कालीन प्रधान मंत्री माननीया इंदिरा गांधी जी ने जो बैन लगाया और आरक्षण लगा की खुलने का नाम ही नहीं लेना चाहती है | बेरोजगारों की फौज ह्म्मारे देश में तैयार बैठी है | पढ़ाई के नाम पर जनता का शोषण हुआ और कब चेतेगी सरकार आज आतंकी कश्मीर के लोगो को बहलाकर जो बनाया जाता रहा किसी से छिपा नहीं हाँ सरकार को रोजगार देना उसका परम कर्तब्य है | प्राचीन काल में राजा रजवाड़े द्वारा रोजगार देने की बातें हमारे इतिहास में है लेकिन आजतक जिसने गद्दी सम्हाली उसके समय में घोटाले सुनके को आते रहे कितनी रिक्ब्री हुई देश हित में प्रत्यक्ष जनता में होनी चाहिए या नही यह सरकार का काम हमसब समझकर हाथ पर हाथ धरे बैठे रहते रहे हैं.... देश को आगे बढाने में नौजवानों का योगदान होता है इसे कौन कर दिखाएगा |

      हटाएं
  3. Just awesome, through satire you have presented a deep thought, mind blowing logical analysis. strong and impressive post.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोई सरकार अच्छे नागरिक चाहती ही नहीं है क्योंकि अच्छे नागरिकों में सोचने व अच्छा बुरा समझने की क्षमता विकसित होजाती है। सरकारों को आलसी, कामचोर ,नकारा नागरिकों की आवश्यकता होती है जो लालच में उन्हें वोट देदें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हकीकत से रूबरू कराता ... बहुत बढ़िया ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. Behtareen vichaar aur lekh, Jyoti!
    Main khud iss baat se chakit hoon ki koi bhi sarkar parivar niyojan ko project kyon nahi banaati hai..har ek sarkar iss par khamosh kyon rahti hai...
    Aap kitni bhi harit kranti/shwet kranti le aayen, agar khaane waale muh control nahi karenge toh hamesha bhukhe hi marenge:(:(

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (01-07-2016) को "आदमी का चमत्कार" (चर्चा अंक-2390) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सार्थक आलेख की प्रस्‍तुति। पर देश में कल्‍याणकारी राज्‍य की अवधारणा का विकास ही नहीं हो पाया है। देश की सरकारे बच्‍चों को पालने का काम नहीं कर रही हैं बल्कि कुछ वोट हासिल करने के लिए पालने का दिखावा मात्र ही कर रही हैं।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जमशेद जी, बिल्कुल सही कहा आपने। सरकार यह सब सिर्फ वोट हासिल करने के लिए ही करती है।

      हटाएं
  9. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 09 जुलाई 2016 को लिंक की जाएगी .... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. यह बात बिलकुल सही है , की सरकार की योजनाओं में राष्ट्रनीति की जगह राजनीति अधिक दिखाई पड़ती है | क्योकि अब हमारा राष्ट्र ऐसी स्थिति में पहुँच गया है, की राष्ट्रनीति की बातें करके, या फिर इस ओर कोई कदम उठा के किसी भी पार्टी का सत्ता में रहना नामुमकिन है |

    उत्तर देंहटाएं
  11. आदरणीया ज्योति जी, आपका व्यंग्य-लेख तथ्यों एवं तर्कों पर आधारित है लेकिन जो कुछ भी आपने लेखबद्ध किया है, उसे सरकारें कागज़ों पर ही अधिक करती हैं, वास्तविकता में बहुत कम । विभिन्न तथाकथित जनहित योजनाओं का शोर जितना होता है, ठोस कार्य उसका अंशमात्र भी कठिनाई से ही हो पाता है । हाँ, उनके लिए नियत सार्वजनिक धन से नेताओं एवं सरकारी अमले की ज़ेबें अवश्य भर जाती हैं । जहाँ तक परिवार-नियोजन का प्रश्न है, आंतरिक आपातकाल (1975-1977) के समय में उसी पर बहुत अधिक बल दिया गया था जिसका परिणाम यह निकला कि सरकार के विरुद्ध लोगों का आक्रोश आगामी चुनाव में ऐसे फूटा कि सम्पूर्ण उत्तर भारत में सत्तारूढ़ दल का सफ़ाया हो गया । उसके उपरांत किस सरकार या राजनीतिक दल में यह साहस बच सकता था कि परिवार नियोजन के लिए लोगों को प्रोत्साहित करे ? अब परिवार नियोजन केवल शिक्षा द्वारा ही संभव है । लोग जितने अधिक शिक्षित हो रहे हैं, उतने ही वे अपने परिवार के आकार को सीमित रखने में रुचि ले रहे हैं । यह दुष्चक्र अशिक्षा-निर्धनता-अधिक संतानों का है जो टूटता नहीं । बाकी वोट-आधारित राजनीति से संबंधित आपके सभी विचार ठीक हैं लेकिन यह तो हमारे देश का लाइलाज रोग है ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जितेंद्र जी, सही कहा आपने। परिवार नियोजन सिर्फ और सिर्फ शिक्षा के माध्यम से ही संभव है।

      हटाएं
  12. Jyoti ji आपके विचार सहमत योज्ञ रोजगार आवश्यक आवशयकता की पूर्ति कराता है परन्तु ग़रीबी के खात्मे तक संसोधन युक्त सहायता आवश्यक !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बढ़िया लेख ज्योति जी। जनकल्याणकारी योजनाओं के नाम पर फ्री में सहायता और सब्सिडी उपलब्ध करवाने से ज्यादा बेहतर है कि ज्यादा से ज्यादा रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाए जाए।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बढ़िया लेख ज्योती जी बिलकुल सही लिखा में सहमत हूं आपके विचारों से

    उत्तर देंहटाएं
  15. ज्योति आपने बहुत सटीक विषय पर लिखा है
    विचारणीय है

    उत्तर देंहटाएं
  16. ज्योति जी आपने समस्या पर बिलकुल नए तरह से सोचने पर विवश किया है ... सार्थक आलेख

    उत्तर देंहटाएं
  17. प्रतिस्पर्धा में ही
    लगे हगे हैं सारे ... देश समाज KI CHINTA किसी को नहीं है ... आपने सही कहा है ...

    उत्तर देंहटाएं

नाम

'रेप प्रूफ पैंटी',1,#मीटू अभियान,1,15 अगस्त,3,26 जनवरी,1,8 मार्च,1,अंकुरित अनाज,1,अंगदान,1,अंगुठी,1,अंग्रेजी,2,अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस,3,अंतरराष्ट्रीय वृद्धजन दिवस,1,अंधविश्वास,10,अंधश्रद्धा,8,अंधश्रध्दा,2,अंश,1,अग्निपरीक्षा,1,अग्रवाल,1,अचार,6,अच्छी पत्नी,1,अच्छी पत्नी चाहिए तो...,1,अच्छे काम,1,अजब-गजब,2,अतित,1,अदरक,1,अदरक का चूर्ण,1,अदरक-लहसुन पेस्ट,1,अनमोल वचन,10,अनुदान,1,अनुप जलोटा,1,अन्न,1,अन्य,23,अन्याय,1,अपेक्षा,1,अप्पे,4,अमरुद,1,अमरूद की खट्टी-मीठी चटनी,1,अमीरी,1,अमेजन,1,अरुणा शानबाग,1,अरुनाचलम मुरुगनांथम,1,अवार्ड,2,असली हीरो,12,अस्पतालों में बच्चों की मौत,1,आंवला,3,आंवला चटनी,1,आंवला लौंजी,1,आइसक्रीम,1,आईसीयू ग्रेंडपा,1,आज के जमाने की अच्छाइयां,1,आजादी,2,आज़ादी,1,आतंकवादी,2,आत्महत्या,2,आत्मा,1,आदित्य तिवारी,1,आम,6,आम का अचार,1,आम का पना,1,आम का मुरब्बा,1,आम की बर्फी,1,आम पापड़,1,आरक्षण,1,आलू,1,आलू पोहा अप्पे,1,इंसान,2,इंस्टंट डोसा,1,इंस्टंट स्नैक्स,1,इंस्टट ढोकला,1,इंस्टेंट कुल्फी,1,इडली,3,इन्डियन टाइम,1,इमली,1,इरोम शर्मिला,1,ईद,1,ईश्वर,6,ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना,1,उटी,1,उपमा,1,उपवास,1,उपवास की इडली,1,उपहार,2,उमा शर्मा,1,ऋषि पंचमी,1,एक सवाल,1,ऐनी दिव्या,1,ऐश ट्रे,1,ऑनलाइन,1,और इज्जत बच गई,1,कंघा,1,कच्चे आम,1,कच्चे आम का चटपटा पापड़,1,कटलेट्स,1,कद्दु,1,कद्दु के गुलगुले,1,कन्यादान,3,करवा चौथ शायरी,1,करवा-चौथ,3,कल्याणी श्रीवास्तव,1,कहानी,14,कांजी,1,कानून,1,कामवाली बाई,4,कालीन,1,किचन टिप्स,13,किटी पार्टी,1,किराए पर बीवियां,1,कुंडली मिलान,1,कुरकुरे,1,कुल्फी,1,कुल्फी प्रीमिक्स,1,कूकर,1,केईएम् अस्पताल,1,कॉर्न,4,कॉर्न इडली,1,कौए,1,क्षमा,2,खजूर,1,खत,3,खबर,3,खरबूजा,1,खांडवी,1,खाद्य पदार्थ,1,खाना,1,खारक,1,खारी गरम,1,खुले में शौच,1,खुशी,2,खेल,1,गणतंत्र दिवस,1,गणेश चतुर्थी पर शायरी,1,गणेश चतुर्थी प्रसाद रेसिपी,1,गरम मसाला,1,गर्दन दर्द,1,गर्भाशय,1,गलत व्यवहार,1,गलती,2,गाजर,4,गाजर अप्पे,1,गाजर के लड्डू,1,गाजर-मूली के दही बडे,1,गाय,1,गुजरात,1,गुड टच और बैड टच,2,गुलगुले,1,गुस्सा,1,गृहस्वामिनी,1,गोरखपुर,1,गोल्फ,1,गौरी पराशर,1,घंटी,1,घिया,1,घी,1,घी की नदी,1,चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण शक्ति,1,चकली,1,चटनी,7,चाँद पर जमीन,1,चाय,1,चाय मसाला,1,चावल,2,चावल के पापड़,1,चाशनी,1,चीज,1,चीला,2,चूर्ण,4,छींक,1,छोटी बाते,1,छोटे लेकिन काम के टिप्स,1,छोटे-छोटे काम के टिप्स,2,जज्बा,1,जनसंख्या,1,जन्मदिन,3,जन्मदिन की शुभकामनाएं,2,जन्माष्टमी,2,जमाना,1,जलेबी,1,जाट आंदोलन,1,जात-पात,1,जाति,1,जाम,1,जिंदगी,1,जीएसटी,1,जीरो ऑइल रेसिपी,5,जोक्स,5,जोयिता मंडल,1,ज्वार की रोटी,1,ज्वेलरी,1,झारखंड,1,झाले-वारणे,2,झूठ,1,टिप्स कॉर्नर,25,टी.व्ही. और सिनेमा,1,ठंडे पेय,2,ठेचा,1,डॉक्टर,2,डॉटर्स डे,2,ढाबा स्टाइल सब्जी,1,ढोकले,1,तरबूज,1,तलाक,1,ताजे नारियल की बर्फी,1,तिल,2,तिल की कुरकुरी चिक्की,1,तिल के लड्डू,1,तेलंगाना,1,तोहफ़ा,1,थंडा पानी,1,दक्षिणा,1,दवा,1,दही,5,दही सैंडविच,1,दहेज,3,दाग-धब्बे,1,दान,1,दासी,1,दिपावली बधाई संदेश,3,दिशा,1,दीपावली शुभकामना संदेश,1,दीवाली रेसिपी,1,दुध पावडर,1,दुर्गा माता,1,दुल्हा,1,दुश्मन,1,दूध,2,देशभक्ति,3,देशभक्ति शायरी,2,देहदान,1,दोस्त,2,धनिया,1,धर्म,2,धर्मग्रंध,1,धार्मिक,26,नदी में पैसे,1,नन्ही परी,1,नमक पारे,1,नमकीन,1,नवरात्र,1,नवरात्र स्पेशल,2,नवरात्रि,1,नवरात्री रेसिपी,5,नववर्ष,2,नववर्ष की शुभकामनाएं,2,नाइंसाफी,1,नानी,1,नारियल बर्फ़ी,1,नारी,44,नारी अत्याचार,10,नारी शिक्षा,1,नाश्ता,1,निंबु का अचार,1,निचली जाती,1,निर्णयक्षमता,1,निर्भया,2,निवाला,1,नींबू,1,नेत्रदान,1,नेपाल त्रासदी,1,नेल आर्ट,1,पकोडे,2,पक्षी,1,पढ़ा-लिख़ा कौन?,1,पढ़ाई,1,पति,1,पति का अहं,1,पति-पत्नी,1,पत्ता गोभी,1,पत्ता गोभी की मुठिया,1,पत्नी,1,पत्र,1,पपीता,1,परंपरा,2,परवरिश,4,पराठे,1,परीक्षा,1,परेशानी,1,पल्ली उत्सव,1,पवित्र,1,पवित्रता,2,पसंदीदा शिक्षक को पत्र,1,पापड़,3,पालक,1,पालक के नमक पारे,1,पालक बडी,1,पाश्चात्य संस्कृति,1,पिता,1,पुण्य,1,पुरानी मान्यताएं,1,पुलवामा हमला,1,पूडी,1,पेढे,1,पैड्मैन,1,पैनकेक,1,पैरेंटीग,1,पोर्न मूवी,1,पोषण,1,पोहा,1,पोहे के कुरकुरे,1,प्याज,3,प्याज की चटनी,1,प्यार,1,प्यासा कौआ,1,प्रत्यूषा,1,प्रद्युम्न,1,प्रसन्न,1,प्राणियों से सीख,1,प्री वेडिंग फोटोशूट,1,फर्रुखाबाद,1,फलाहार,1,फल्लिदाने,1,फादर्स डे,1,फूल गोभी के परांठे,1,फेसबुक,2,फैशन,1,फ्रिज,1,फ्रेंडशीप डे,1,फ्रेंडशीप डे शायरी,1,बकरीद,1,बची हुई सामग्री का उपयोग,1,बच्चे,5,बच्चे की ज़िद,1,बच्चें,1,बछबारस,1,बटर,1,बड़ा कौन?,1,बढ़ती उम्र,1,बदला,1,बधाई संदेश,4,बरबादी,1,बर्फी,2,बलात्कार,8,बहू,2,बाजरा,1,बाल शोषण,2,बाहर का खाना,1,बिल्ली के गले में घंटी,1,बुढ़ापा,1,बुलंदशहर गैंगरेप,1,बेटा,1,बेटा पढाओ,1,बेटी,6,बेटी बचाओ अभियान,2,बेसन,2,बैंगन,1,ब्रेकअप,1,ब्रेड,4,ब्रेड की रसमलाई,1,ब्रेड पकोडा,1,ब्रेड पिस्ता पेढे,1,ब्लॉगअद्दा एक्टिविटी,1,ब्लॉगर ऑफ द इयर 2019,1,ब्लॉगर्स रिकोग्निशन अवार्ड,1,ब्लॉगिंग,5,ब्ल्यू व्हेल गेम,1,भक्ति,1,भगर,3,भगर की इडली,1,भगर के उत्तपम,1,भगर के कटलेट,1,भगवान,3,भजिए,1,भरवां मिर्च,1,भाई दूज शायरी,1,भाकरवड़ी,1,भाभी,1,भारत,1,भारतीय मसाले,1,भुट्टे के पकोड़े,1,भूकंप,1,भोजन,1,भ्रुण हत्या,1,मंदसौर गैंग रेप,1,मंदिर,2,मंदिरों में ड्रेस कोड़,1,मंदिरों में दक्षिणा,1,मकई,4,मकई उपमा,1,मकई चीला,1,मकई पकोडे,1,मकर संक्रांति,2,मकर संक्रांति की शुभकामनाएं,1,मकर संक्राति,1,मटर,3,मटर के अप्पे,1,मदर्स डे,3,मम्मी,1,मलाई,2,मलाई फ्रूट सलाद,1,महानता,1,महाराजा अग्रसेन जी,1,महिला आजादी,1,महिला आरक्षण,1,महिला सशक्तिकरण,4,महिला सुरक्षा,1,महिलाओं का पहनावा,1,माँ,3,माता यशोदा,1,मातृभाषा,1,मायका,2,मारवाड़ी,1,मार्केट जैसे साबूदाना पापड़,1,माला,1,मावा कुल्फी,1,मासिक धर्म,2,माहवारी,3,मिठाई,17,मित्र,2,मिलावट,1,मिलावट पहचानने के घरेलू तरीके,1,मुक्ति,1,मुबारकपुर कला,1,मुस्लिम मंच,1,मुहूर्त,1,मूंग की सूखी दाल का हलवा,1,मूंगफली,1,मूंगफली की सूखी चटनी,1,मूली,3,मूली का अचार,1,मूली के पत्तों के कुरकुरे कटलेट्स,1,मेंस्ट्रुअल कप,1,मेंहदी,6,मेडिसिन बाबा,1,मेथी,1,मेथी दाना चुर्ण,1,मेथी मटर मलाई,1,मेनु,1,मेरा मंत्र,3,मेरी बात,15,मैंगो श्रीखंड,1,मैनर्स,1,रंग,1,रंग पंचमी,1,रक्तदान,1,रक्तदान के फायदे,1,रक्षाबंधन,1,रक्षाबंधन शायरी,1,रजस्वला नारी,3,रवा इडली,1,रसोई,90,रांगोली,3,राखी,1,राजभाषा,1,राजस्थानी समाज,2,राम रहीम,1,राशी-भविष्य,1,राष्ट्रगान,1,राष्ट्रगीत,1,राष्ट्रभाषा,1,रिती-रिवाज,1,रीतिरिवाज,1,रुपया-पैसा,1,रोटी,2,रोस्टेड मूंगफली,1,लघुकथा,9,लड्डू,2,लहसुन,1,लाइटर,1,लाल मिर्च की सूखी चटनी,1,लीव इन रिलेशनशिप,1,लेसुए,1,लॉटरी,1,लोकल ट्रेन,1,लोग क्या कहेंगे?,1,लौकी,2,लौकी का हलवा,1,लौकी की बड़ी,1,वक्त,1,वटसावित्री व्रत,1,वर,1,वर्जिनिटी टेस्ट,1,वर्तमान,1,वारी के हनुमान,1,विधवा,1,विधवा ने किया कन्यादान,1,विधवा विवाह,1,विशाखापट्टनम रेप कांड,1,वृंदावन,1,वृद्धावस्था,1,वेजिटेबल डोसा,1,वेजिटेबल पैनकेक,1,वैलेंटाइन डे,1,व्यंग,11,व्यायाम,1,व्रत,2,व्रत रेसिपी,15,व्रत स्पेशल,2,शकरकंद,1,शकरकंद की जलेबी,1,शकुन-अपशकुन,1,शक्करपारे,1,शनि देव,1,शब्द,1,शरबत,1,शर्बत,1,शर्म,2,शादी,5,शादी की खरेदी,1,शादी की फ़िजूलखर्ची का बिल,1,शादी के सालगिरह की शुभकामनाएं,1,शादी-ब्याह,3,शायरी,9,शिक्षक दिन,1,शिक्षा,4,शिवपुरी,1,शुभ मुहूर्त,1,शुभ-अशुभ,3,शुभम जगलान,1,श्राद्ध,3,श्राद्ध का खाना,1,श्रीकृष्ण,2,श्रेष्ठता,1,संस्कार,1,संस्मरण,9,सकारात्मक पहल,2,सच बोलने की प्रेरणा,1,सतबीर ढिल्लो,1,सपना,1,सफेद बाल,1,सब्जियों का अचार,1,सब्जियों की कांजी,1,सब्जी,2,समय,1,समाजसेवा,2,समाजिक,1,समाधान,1,समावत चावल,2,सर के बाल,1,सलाद,1,ससुराल,2,सहशिक्षा,1,सांवला या काला रंग,1,साउथ इंडियन डिश,2,साक्षात्कार,3,सागर में ज्वार,1,साफ-सफाई,1,साबुदाना,2,साबुदाना के अप्पे,1,साबुदाना पापड़,2,साबुदाने लड्डू,1,साबूदाना,2,सामाजिक,58,सामाजिक कार्यकर्ता,1,सालगिरह,5,सास,2,साहित्य,77,सिंगल पैरेंट,1,सिंदूर,1,सीख-सुहानी,1,सीनू कुमारी,1,सुखी,1,सुजी,1,सूजी,1,सूजी के लड्डू,1,सेनेटरी नेपकिन,1,सेब,1,सेलिब्रेटी,1,सेवई उपमा,1,सेहत,1,सैंडविच,1,सौंफ,1,सौंफ का शरबत,1,सौंफ प्रीमिक्स,1,सौतेली माता,1,स्कूल,1,स्त्री,2,स्नैक्स,30,स्वतंंत्रता दिन,1,स्वतंत्रता दिन,2,स्वर्ग और नर्क,1,स्वाभिमान,1,स्वास्थ,2,स्वास्थ्य,9,हंस,1,हनुमान जी,2,हरी मटर के पैनकेक,1,हरी मिर्च,3,हरी मिर्च का अचार,1,हलवा,2,हाउसवाइफ,1,हाथी,1,हिंदी उखाणे,1,हिंदी उखाने,1,हिंदी दिवस,1,हिंदी शायरी,22,हैंडल,1,होटल,1,होममेकर,1,होली की शुभकामनाएं,1,
ltr
item
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल: व्यंग- पैदा करेंगी आम जनता...पालेंगी सरकार...!!
व्यंग- पैदा करेंगी आम जनता...पालेंगी सरकार...!!
जब भारत सरकार जन्म के पहले से लेकर मृत्यु के बाद तक हर कदम पर, हर तरह की सरकारी सहायता कराने के लिए वचनबद्ध है, तो भारत की आबादी दिन दूनी रात चौगुनी गती से क्यों नहीं बढ़ेंगी!!!
https://4.bp.blogspot.com/-TSenHfSX9cc/V24PCYp1RGI/AAAAAAAABhM/FUXiE_LT80Q7dFBv8hMKLYYGPL03fOHPQCLcB/s640/jansankhyaa.jpg
https://4.bp.blogspot.com/-TSenHfSX9cc/V24PCYp1RGI/AAAAAAAABhM/FUXiE_LT80Q7dFBv8hMKLYYGPL03fOHPQCLcB/s72-c/jansankhyaa.jpg
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
https://www.jyotidehliwal.com/2016/06/paida-karegi-aam-janata-palegi-sarakar.html
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/2016/06/paida-karegi-aam-janata-palegi-sarakar.html
true
7544976612941800155
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy