बुलंदशहरों की बुलंदियों को कब तक लगता रहेगा ग्रहण??

जिसने एक बार हलाहल पान किया, वो सदियों से निलकंठ बन पूजा गया! बलात्कार पीड़िता हर रोज थोड़ा-थोड़ा विषपान करती है, है कोई उपाय जो पीड़िता का ताप कम कर सकेगा???

बुलंदशहरों की बुलंदियों को क्यो और कब तक लगता रहेगा ग्रहण??
हमारें यहां बला की महिला महिमा है। धन की देवी लक्ष्मी है, तो ज्ञान की सरस्वती! हर अन्याय के प्रतिकार हेतु शेर पर सवार दुर्गा मैया है, तो अस्त्रशस्त्र से लैस जबान लपलपाती काली माता! जिस देश में महिलाओं का देवी के रुप में पुजन होता है, उस देश के बुलंदशहरों की बुलंदियों को क्यो लगता है ग्रहण? क्यों होते है यहां इतने बलात्कार और वो भी गैंगरेप? सोचिए, उस बंधक बाप पर क्या बीत रहीं होगी, जब उसकी पत्नी और बेटी के साथ तीन घंटे तक यह घिनौना कृत्य किया गया! अपनी पत्नी और बेटी की चिखें गुंजती रहेगी उसके कानों में, जब-तक वह जिंदा है...!

बुलंदशहरों की बुलंदियों को कब तक लगता रहेगा ग्रहण??

जिसने एक बार हलाहल पान किया, वो सदियों से निलकंठ बन पूजा गया!
बलात्कार पीड़िता हर रोज थोड़ा-थोड़ा विषपान करती है,
है कोई उपाय जो पीड़िता का ताप कम कर सकेगा???

सामान्यत: यह कहा जाता है कि रात को महिला अकेली घर से बाहर निकली थी और उसने भड़काऊ कपड़े पहन रखें थे इसलिए बलात्कारियों को प्रोत्साहन मिला! लेकिन बुलंदशहर हादसे की पीड़िताएं अकेली नहीं थी और उन्होंने कपड़े भी कम नहीं पहने थे फिर क्यों हुआ उनके साथ गैंगरेप? आइए, हम थोड़ा इस बात पर गौर करें कि आखिर इंसान इंसानियत की सभी हदे पार करकर बलात्कार जैसे कुकर्म क्यों करता है?

• पुरुषवादी अहंकारी सोच
बलात्कार के लिए सबसे प्रमुख रुप से उत्तरदायी है, पुरुषवादी अहंकारी सोच! प्राचीन काल से ही पुरुषों की सोच महिलाओं को सिर्फ एक भोग्या मानने की रहीं है। ब्रम्हापुत्रि देवी अहिल्या को भी देवराज इंद्र की काम लोलुपता का शिकार होना पडा था। पाप किया इंद्र ने और सजा भुगती निर्दोष अहिल्या ने! अपने पति ऋषी गौतम के शाप के बाद जड हो चुकी अहिल्या हजारों वर्षों के तप के बाद श्रीराम के दर्शन से वापस चैतन्य हो पाई। प्राचीन काल में युद्ध में विजयी देश के सैनिक, पराजित देश की महिलाओं पर बलात्कार करते थे। युद्ध दो देशों के पुरुषों के बीच हुआ, महिलाओं ने तो युद्ध नहीं किया, फिर उन पर बलात्कार क्यों? आज भी महिला चाहे जितनी पढ़ी-लिखी हो, बड़े से बड़े पद पर आसीन हो, पुरुषों के लिए वह सिर्फ जिस्म है शोषण के लिए। 'सुल्तान' फिल्म के कुश्ती के दृश्यों की शुटिंग के दौरान हुई थकान की सलमान खान ने एक दुष्कर्म पीड़िता से संवेदनहीन तुलना की थी। मानो कुश्ती की थकान और दुष्कर्म पीड़िता का दर्द दोनों बातें समान हो! सलमान की टिप्पणी समाज में इस तरह की पुरुषवादी अहंकारी मानसिकता का आम संकेत है। बातचीत में हम आमतौर पर इस तरह की बातें सुनते है। मसलन, किसी युवा ने एक दोस्त के बाइक की खराब हालत देखी तो उसने तपाक से कह दिया कि तुमने तो बाइक का रेप कर दिया! मुद्दा यहीं है। पुरुषों के लिए 'रेप' एक सामान्य घटना है, जब तक वह उनकी स्वयं की बहन-बेटी के साथ न हो! सलमान या कोई भी युवा, एक घृनित अपराध को किसी भी संदर्भ में एक बार भी विचार किए बिना इस्तेमाल करते हैं, तो यह उनकी पुरुषवादी अहंकारी सोच का ही परिणाम है।

• किसी को परास्त करने हेतु या बदला लेने हेतु
यदि कोई व्यक्ति बहुत ईमानदारी से अपने कार्य को अंजाम दे रहा है, आसमान की बुलंदियों को छू रहा है, खुद के ग़ैरक़ानूनी कामों के आड़े आ रहा है, उसे किसी भी तरह से परास्त करना नामुमकिन दिख रहा है, तो ऐसे में आसान शिकार बनती है उस पुरुष की पत्नी या बहन! बहन-बेटी की इज्जत से खेल लो, उस इंसान का गरुर अपने-आप टूट जाएगा। किसी व्यक्ति से झगड़ा है, तो बदला लेने के लिए भी उस व्यक्ति की बहन-बेटी पर बलात्कार किया जाता है। यह नुस्खा प्राचिनकाल से ही अपनाया जा रहा है और आज भी जारी है...। क्योंकि आज भी एक औरत की इज्जत को पूरे परिवार की इज्जत से जोडकर देखा जाता है।

• कानुन का डर न होना
अलग-अलग देशों में बलात्कार के लिए अलग-अलग सजाओं का प्रावधान है। कहीं उम्रकैद दी जाती है, तो कहीं मृत्यु दंड! लेकिन हमारे यहां क्या होता है? सोशल मीड़िया पर छाने के बाद प्रदर्शन...धरना...जांचआयोग...समझौता...रिश्वत...लड़की की आलोचना...राजनीतिकरण...सालों बाद चार्जशिट...सालों तक मुकदमा...जमानत...अंत में दोषी बच निकलता है!!
चाहे ‘दामिनी कांड’ हो, ‘निर्भया कांड’ हो या ‘बुलंदशहर रेप कांड’ हो, हमारे नेताओं, समाजसेवियों और मानवाधिकार के ठेकेदारों को बलात्कारियों से इतनी हमदर्दी है कि इसी हमदर्दी के चलते आज तक किसी भी बलात्कारी को सरे आम मौत की सजा नहीं दी जा सकी हैं। सभी बलात्कारी इस बात को अच्छे से जानते और समझते है कि पकड़े जाने पर, उन पर जुल्म साबित करना कानुन के लिए बहुत टेढ़ी खीर है। क्योंकी कानुन को सबूत चाहिए होता है और कोई भी बलात्कारी किसी के सामने बलात्कार नहीं करेगा! सनी देओल के ‘दामिनी’ फिल्म के मशहूर डायलॉग की तरह सिर्फ तारीख पर तारीख, तारीख पर तारीख, तारीख पर तारीख... मिलती जाएगी! यदि जुल्म साबित हो भी गया तो क्या होगा? जेल के अंदर ही मनोरंजन और रहन-सहन की सभी ऐसी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएगी, जो शायद जेल के बाहर रहने पर भी उन्हें नहीं मिल पाती! हमारे यहां लोगों के मन में कानुन का डर न होने से बलात्कार की घटनाएं ज्यादा होती है।

• घटना को वोटबैंक में बदलने की राजनिति
आज ‘बुलंदशहर रेप कांड’ की सभी चैनल पर साधारण खबर है। मायावती का कोई बयान नहीं आया, केजरीवाल जी चूप है, राहुल गांधी मिलने नहीं गए और न ही टी. व्ही. पर ‘दलित बनाम अदलित’ की बहस छिडी! क्यों? क्योंकि ‘बुलंदशहर रेप कांड’ की पीड़िताएं सामान्य कैटेगरी की थी और आरोपी दलित थे!! क्या सामान्य कैटेगरी के लोग इंसान नहीं होते? अचंभा तो तब अधिक होता है जब सामान्य कैटेगरी के नेता भी ऐसे समय चुप्पी साध जाते है और आजम खान जैसे नेता बलात्कार जैसी घटना को भी विरोधियों की साजिश बताने से बाज नहीं आते। हमारें यहां जब-तक कोई घटना वोटबैंक में बदली नहीं जा सकती तब-तक वो घटना, एक सामान्य घटना रहती है। चाहे वह किसी का बलात्कार ही क्यों न हो!!!

जब तक महिलाओं को भोग्या मानने की मानसिकता खत्म नहीं होगी, अपराधियों को कानुन एवं समाज का डर नहीं लगेगा, घटना को वोटबैंक में बदलने की राजनिति खत्म नहीं होगी, तब तक बुलंदशहरों की बुलंदियों को ग्रहण लगता रहेगा!!!

सुचना- दोस्तो, फेसबुक के एक ग्रुप में इस पोस्ट पर एक कॉमेंट आई है,  "कब तक आप बुझती हुई आग को हवा देती रहेगी।" इन महाशय ने गैंगरेप जैसे घृनित अपराध का क्या बढ़िया हल निकाला है...!  बलात्कार पीड़िताओं ने चुपचाप सब सहन करना चाहिए और किसी ने भी उस बात को गंभिरता से नहीं लेना चाहिए। चाहे बलात्कार पीड़िताएं ताउम्र उस दर्द की आग के जलन को महसुस कर हर रोज थोड़ी-थोड़ी मरती रहें। चूप रहों मामला खत्म।


Keywords: Buland shahar gangrape, rape, crime against women, balatkar, samuhik balatkar, mahila sashaktikaran

COMMENTS

BLOGGER: 20
  1. Bahut sahi kaha aapne.Hame hamari soch ko badalna hoga.Desh ke kanun ko badalna hoga.

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब तक महिलाओं को भोग्या मानने की मानसिकता खत्म नहीं होगी, अपराधियों को कानुन एवं समाज का डर नहीं लगेगा, घटना को वोटबैंक में बदलने की राजनिति खत्म नहीं होगी, तब तक बुलंदशहरों की बुलंदियों को ग्रहण लगता रहेगा ....एकदम सच कहा आपने ....
    .......
    बलात्कारियों को तो सीधे फांसी पर लटकाये जाने का कानून होना चाहिए ..या फिर जनता के हवाले छोड़ देना चाहिए सारे आम दण्डित करने के लिए ...फिर देखो ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (08-08-2016) को "तिरंगा बना देंगे हम चाँद-तारा" (चर्चा अंक-2428) पर भी होगी।
    --
    मित्रतादिवस और नाग पञ्चमी की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय शास्त्री जी, मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत-बह्त धन्यवाद।

      हटाएं
  4. इतने अधिक सम्मान के लिए धन्यवाद, ज्योतिर्मोय!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. jyoti ji aapne Article me Rahul gandhi ki jagah Rajeev gandhi likh diya hai....kripya correct karen......

      हटाएं
    2. अमूल जी, ध्यानाकर्षण के लिए बहुत बहुत धन्यवाद। वैसे आपने इतने मन से मेरा ब्लॉग पढ़ा उसके लिए दूबारा धन्यवाद।

      हटाएं
  5. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 09/08/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ब्लॉगर भाई कुलदीप जी, मेरी रचना शामिल करने के लिए बहुत बहूत धन्यवाद।

      हटाएं
  6. बहुत सटीक बाते लिखी है देवीजी अपने भक्तो पर कारवाई की मांग क्यो नही करती । राहुल गांधी भी मिलने नही जाऐगे क्योंकि वे दलित नही है । यह व्यवस्था देश को बर्बाद कर देगी । गृह युद्ध होगा यह अब निश्चित हो रहा है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ज्ञान द्रष्टा जी, यहाँ पर देवी और भक्त का क्या मामला है, मेरी समझ में नहीं आया है। कृपया स्पष्ट करें।

      हटाएं
    2. Mujhe lagta hai inhone mayavati ko devi kaha hai aur unke voter ko bhakt kaha hai

      हटाएं
  7. Aapki sabhi baton se me sehmat hu....pata nahi kuch logo ke andar kesi gandi mansikta panap rahi hai....me nafrat karta hu in sabhi se.....yeh log jo esa karte hain, purush to nahi kahe ja sakte kyoki purush ka ek kartavya mahilayon ki ijjat karna bhi hai.....ese log jaanvar bhi nahi kahe ja sakte kyoki janvar bhi esa ghinauna karya nahi karte.....ese log janvar se bhi nimn sreni ke hain.....aur jo log is par rajneeti karte hain veh repist se bhi nimn sreni ke hain.....beemar hote hain ese log....are koi to ilaz karo inka.....kyoki ilaz ek hi hai aur vo hai....FANSHI.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. Jyoti ji you have accurately listed the reason, and those doesn't always have a correlation with how a woman dresses. It is the mindset that needs to be altered in Bulandshahar or any other place for women to be safe.

    उत्तर देंहटाएं
  9. Jyoti ji you have accurately listed the reason, and those doesn't always have a correlation with how a woman dresses. It is the mindset that needs to be altered in Bulandshahar or any other place for women to be safe.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आँखें झुक जाती हैं शर्म से ... कितना घिनोना हो गया है इंसान और उस पे जो प्रतिक्रियाये आती हैं वो तो और भी शर्मनाक होती हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. हमारा संविधान ही दोषपूर्ण है जिसमें लिखा है कि चाहे 100 अपराधी छूट जाएँ पर एक निरपराध को सजा नहीं मिलनी चाहिए। संविधान निर्माताओं ने इस बात पर भी विचार नहीं किया कि संदेह का लाभ केवल अपराधी को ही क्यों पीड़ित को क्यों नहीं और अपराध साबित करने की जिम्मेदारी पीड़ित की ही क्यों अपराधी पर स्वयं को निरपराध साबित करने की जिम्मेदारी क्यों नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. It was very useful for me. Keep sharing such ideas in the future as well. This was actually what I was looking for, and I am glad to came here! Thanks for sharing the such information with us.

    उत्तर देंहटाएं

नाम

'रेप प्रूफ पैंटी',1,#मीटू अभियान,1,15 अगस्त,3,26 जनवरी,1,8 मार्च,1,अंकुरित अनाज,1,अंगदान,1,अंगुठी,1,अंग्रेजी,2,अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस,3,अंतरराष्ट्रीय वृद्धजन दिवस,1,अंधविश्वास,10,अंधश्रद्धा,8,अंधश्रध्दा,2,अंश,1,अग्निपरीक्षा,1,अग्रवाल,1,अचार,7,अच्छी पत्नी,1,अच्छी पत्नी चाहिए तो...,1,अच्छे काम,1,अजब-गजब,2,अतित,1,अदरक,1,अदरक का चूर्ण,1,अदरक-लहसुन पेस्ट,1,अनमोल वचन,10,अनुदान,1,अनुप जलोटा,1,अन्न,1,अन्य,23,अन्याय,1,अपेक्षा,1,अप्पे,4,अमरुद,1,अमरूद की खट्टी-मीठी चटनी,1,अमीरी,1,अमेजन,1,अरुणा शानबाग,1,अरुनाचलम मुरुगनांथम,1,अवार्ड,2,असली हीरो,12,अस्पतालों में बच्चों की मौत,1,आंवला,3,आंवला चटनी,1,आंवला लौंजी,1,आइसक्रीम,1,आईसीयू ग्रेंडपा,1,आज के जमाने की अच्छाइयां,1,आजादी,2,आज़ादी,1,आतंकवादी,2,आत्महत्या,3,आत्मा,1,आदित्य तिवारी,1,आम,8,आम का अचार,1,आम का पना,2,आम का मुरब्बा,2,आम की बर्फी,1,आम पापड़,1,आरक्षण,1,आलू,1,आलू पोहा अप्पे,1,इंसान,2,इंस्टंट डोसा,1,इंस्टंट स्नैक्स,1,इंस्टट ढोकला,1,इंस्टेंट कुल्फी,1,इडली,3,इन्डियन टाइम,1,इमली,1,इरोम शर्मिला,1,ईद,1,ईश्वर,6,ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना,1,उटी,1,उपमा,1,उपवास,1,उपवास की इडली,1,उपहार,2,उमा शर्मा,1,ऋषि पंचमी,1,एक सवाल,1,ऐनी दिव्या,1,ऐश ट्रे,1,ऑनलाइन,1,और इज्जत बच गई,1,कंघा,1,कंसन्ट्रेट आम पना,1,कच्चे आम,1,कच्चे आम का चटपटा पापड़,1,कटलेट्स,1,कद्दु,1,कद्दु के गुलगुले,1,कन्यादान,3,करवा चौथ शायरी,1,करवा-चौथ,3,कल्याणी श्रीवास्तव,1,कहानी,15,कांजी,1,कानून,1,कामवाली बाई,4,कालीन,1,किचन टिप्स,13,किटी पार्टी,1,किराए पर बीवियां,1,कुंडली मिलान,1,कुरकुरे,1,कुल्फी,1,कुल्फी प्रीमिक्स,1,कूकर,1,केईएम् अस्पताल,1,कॉर्न,4,कॉर्न इडली,1,कौए,1,क्षमा,2,खजूर,1,खत,5,खबर,3,खरबूजा,2,खरबूजे का शरबत,1,खांडवी,1,खाद्य पदार्थ,1,खाना,1,खारक,1,खारी गरम,1,खुले में शौच,1,खुशी,2,खेल,1,गणतंत्र दिवस,1,गणेश चतुर्थी पर शायरी,1,गणेश चतुर्थी प्रसाद रेसिपी,1,गरम मसाला,1,गर्दन दर्द,1,गर्भाशय,1,गलत व्यवहार,1,गलती,2,गाजर,4,गाजर अप्पे,1,गाजर के लड्डू,1,गाजर-मूली के दही बडे,1,गाय,1,गुजरात,1,गुड टच और बैड टच,2,गुलगुले,1,गुस्सा,1,गृहस्वामिनी,1,गोरखपुर,1,गोल्फ,1,गौरी पराशर,1,घंटी,1,घिया,1,घी,1,घी की नदी,1,चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण शक्ति,1,चकली,1,चटनी,7,चाँद पर जमीन,1,चाय,1,चाय मसाला,1,चावल,2,चावल के पापड़,1,चाशनी,1,चीज,1,चीला,2,चूर्ण,4,छींक,1,छोटी बाते,1,छोटे लेकिन काम के टिप्स,1,छोटे-छोटे काम के टिप्स,2,जज्बा,1,जनसंख्या,1,जन्मदिन,3,जन्मदिन की शुभकामनाएं,2,जन्माष्टमी,2,जमाना,1,जलेबी,1,जाट आंदोलन,1,जात-पात,1,जाति,1,जाम,1,जिंदगी,1,जीएसटी,1,जीरो ऑइल रेसिपी,5,जोक्स,5,जोयिता मंडल,1,ज्वार की रोटी,1,ज्वेलरी,1,झारखंड,1,झाले-वारणे,2,झूठ,1,टिप्स कॉर्नर,26,टी.व्ही. और सिनेमा,1,ठंडे पेय,4,ठेचा,1,डर,1,डॉक्टर,2,डॉटर्स डे,2,ढाबा स्टाइल सब्जी,1,ढोकले,1,तरबूज,1,तलाक,1,ताजे नारियल की बर्फी,1,तिल,2,तिल की कुरकुरी चिक्की,1,तिल के लड्डू,1,तेलंगाना,1,तोहफ़ा,1,थंडा पानी,1,दक्षिणा,1,दवा,1,दही,5,दही सैंडविच,1,दहेज,3,दाग-धब्बे,1,दान,1,दासी,1,दिपावली बधाई संदेश,3,दिशा,1,दीपावली शुभकामना संदेश,1,दीवाली रेसिपी,1,दुध पावडर,1,दुर्गा माता,1,दुल्हा,1,दुश्मन,1,दूध,2,देशभक्ति,3,देशभक्ति शायरी,2,देहदान,1,दोस्त,2,धनिया,1,धर्म,2,धर्मग्रंध,1,धार्मिक,26,नदी में पैसे,1,नन्ही परी,1,नमक पारे,1,नमकीन,1,नवरात्र,1,नवरात्र स्पेशल,2,नवरात्रि,1,नवरात्री रेसिपी,5,नववर्ष,2,नववर्ष की शुभकामनाएं,2,नाइंसाफी,1,नानी,1,नारियल बर्फ़ी,1,नारी,44,नारी अत्याचार,10,नारी शिक्षा,1,नाश्ता,1,निंबु का अचार,1,निचली जाती,1,निर्णयक्षमता,1,निर्भया,2,निवाला,1,नींबू,1,नेत्रदान,1,नेपाल त्रासदी,1,नेल आर्ट,1,पकोडे,2,पक्षी,1,पढ़ा-लिख़ा कौन?,1,पढ़ाई,1,पति,1,पति का अहं,1,पति-पत्नी,1,पत्ता गोभी,1,पत्ता गोभी की मुठिया,1,पत्नी,1,पत्र,1,पपीता,1,परंपरा,2,परवरिश,5,पराठे,1,परीक्षा,2,परेशानी,1,पल्ली उत्सव,1,पवित्र,1,पवित्रता,2,पसंदीदा शिक्षक को पत्र,1,पानी,1,पानी कैसे पीना चाहिए,1,पापड़,3,पालक,1,पालक के नमक पारे,1,पालक बडी,1,पाश्चात्य संस्कृति,1,पिता,1,पुण्य,1,पुरानी मान्यताएं,1,पुलवामा हमला,1,पूडी,1,पेढे,1,पैड्मैन,1,पैनकेक,1,पैरेंटीग,1,पोर्न मूवी,1,पोषण,1,पोहा,1,पोहे के कुरकुरे,1,प्याज,3,प्याज की चटनी,1,प्यार,1,प्यासा कौआ,1,प्रत्यूषा,1,प्रद्युम्न,1,प्रसन्न,1,प्राणियों से सीख,1,प्री वेडिंग फोटोशूट,1,फर्रुखाबाद,1,फलाहार,1,फल्लिदाने,1,फादर्स डे,1,फूल गोभी के परांठे,1,फेसबुक,2,फैशन,1,फ्रिज,1,फ्रेंडशीप डे,1,फ्रेंडशीप डे शायरी,1,बकरीद,1,बची हुई सामग्री का उपयोग,1,बच्चे,7,बच्चे की ज़िद,1,बच्चें,1,बछबारस,1,बटर,1,बड़ा कौन?,1,बढ़ती उम्र,1,बदला,1,बधाई संदेश,4,बरबादी,1,बर्फी,2,बलात्कार,8,बहू,2,बाजरा,1,बाल शोषण,2,बाहर का खाना,1,बिल्ली के गले में घंटी,1,बुढ़ापा,1,बुलंदशहर गैंगरेप,1,बेटा,1,बेटा पढाओ,1,बेटी,7,बेटी बचाओ अभियान,2,बेसन,2,बैंगन,1,बोझ,1,ब्रेकअप,1,ब्रेड,4,ब्रेड की रसमलाई,1,ब्रेड पकोडा,1,ब्रेड पिस्ता पेढे,1,ब्लॉगअद्दा एक्टिविटी,1,ब्लॉगर ऑफ द इयर 2019,1,ब्लॉगर्स रिकोग्निशन अवार्ड,1,ब्लॉगिंग,5,ब्ल्यू व्हेल गेम,1,भक्ति,1,भगर,3,भगर की इडली,1,भगर के उत्तपम,1,भगर के कटलेट,1,भगवान,3,भजिए,1,भरवां मिर्च,1,भाई दूज शायरी,1,भाकरवड़ी,1,भाभी,1,भारत,1,भारतीय मसाले,1,भुट्टे के पकोड़े,1,भूकंप,1,भोजन,1,भ्रुण हत्या,1,मंदसौर गैंग रेप,1,मंदिर,2,मंदिरों में ड्रेस कोड़,1,मंदिरों में दक्षिणा,1,मकई,4,मकई उपमा,1,मकई चीला,1,मकई पकोडे,1,मकर संक्रांति,2,मकर संक्रांति की शुभकामनाएं,1,मकर संक्राति,1,मटर,3,मटर के अप्पे,1,मदर्स डे,3,मम्मी,1,मलाई,2,मलाई फ्रूट सलाद,1,महानता,1,महाराजा अग्रसेन जी,1,महिला आजादी,1,महिला आरक्षण,1,महिला सशक्तिकरण,4,महिला सुरक्षा,1,महिलाओं का पहनावा,1,माँ,3,माता यशोदा,1,मातृभाषा,1,मायका,2,मारवाड़ी,1,मार्केट जैसे साबूदाना पापड़,1,माला,1,मावा कुल्फी,1,मासिक धर्म,2,माहवारी,3,मिठाई,17,मित्र,2,मिलावट,1,मिलावट पहचानने के घरेलू तरीके,1,मुक्ति,1,मुबारकपुर कला,1,मुरब्बा,1,मुस्लिम मंच,1,मुहूर्त,1,मूंग की सूखी दाल का हलवा,1,मूंगफली,1,मूंगफली की सूखी चटनी,1,मूली,3,मूली का अचार,1,मूली के पत्तों के कुरकुरे कटलेट्स,1,मेंस्ट्रुअल कप,1,मेंहदी,6,मेडिसिन बाबा,1,मेथी,1,मेथी दाना चुर्ण,1,मेथी मटर मलाई,1,मेनु,1,मेरा मंत्र,3,मेरी बात,15,मैंगो श्रीखंड,1,मैनर्स,1,रंग,1,रंग पंचमी,1,रक्तदान,1,रक्तदान के फायदे,1,रक्षाबंधन,1,रक्षाबंधन शायरी,1,रजस्वला नारी,3,रवा इडली,1,रसोई,92,रांगोली,3,राखी,1,राजभाषा,1,राजस्थानी समाज,2,राम रहीम,1,राशी-भविष्य,1,राष्ट्रगान,1,राष्ट्रगीत,1,राष्ट्रभाषा,1,रिती-रिवाज,1,रीतिरिवाज,1,रुपया-पैसा,1,रोटी,2,रोस्टेड मूंगफली,1,लघुकथा,9,लड्डू,2,लहसुन,1,लाइटर,1,लाल मिर्च की सूखी चटनी,1,लीव इन रिलेशनशिप,1,लेसुए,1,लॉटरी,1,लोकल ट्रेन,1,लोग क्या कहेंगे?,1,लौकी,2,लौकी का हलवा,1,लौकी की बड़ी,1,वक्त,1,वटसावित्री व्रत,1,वर,1,वर्जिनिटी टेस्ट,1,वर्तमान,1,वारी के हनुमान,1,विधवा,1,विधवा ने किया कन्यादान,1,विधवा विवाह,1,विशाखापट्टनम रेप कांड,1,वृंदावन,1,वृद्धावस्था,1,वेजिटेबल डोसा,1,वेजिटेबल पैनकेक,1,वैलेंटाइन डे,1,व्यंग,11,व्यायाम,1,व्रत,2,व्रत रेसिपी,15,व्रत स्पेशल,2,शकरकंद,1,शकरकंद की जलेबी,1,शकुन-अपशकुन,1,शक्करपारे,1,शनि देव,1,शब्द,1,शरबत,3,शर्बत,1,शर्म,2,शादी,5,शादी की खरेदी,1,शादी की फ़िजूलखर्ची का बिल,1,शादी के सालगिरह की शुभकामनाएं,1,शादी-ब्याह,3,शायरी,9,शिक्षक दिन,1,शिक्षा,5,शिवपुरी,1,शुभ मुहूर्त,1,शुभ-अशुभ,3,शुभम जगलान,1,श्राद्ध,3,श्राद्ध का खाना,1,श्रीकृष्ण,2,श्रेष्ठता,1,संस्कार,1,संस्मरण,9,सकारात्मक पहल,2,सच बोलने की प्रेरणा,1,सतबीर ढिल्लो,1,सपना,1,सफेद बाल,1,सब्जियों का अचार,1,सब्जियों की कांजी,1,सब्जी,3,समय,1,समाजसेवा,2,समाजिक,1,समाधान,1,समावत चावल,2,सर के बाल,1,सलाद,1,ससुराल,2,सहशिक्षा,1,सांवला या काला रंग,1,साउथ इंडियन डिश,2,साक्षात्कार,3,सागर में ज्वार,1,साफ-सफाई,1,साबुदाना,2,साबुदाना के अप्पे,1,साबुदाना पापड़,2,साबुदाने लड्डू,1,साबूदाना,2,सामाजिक,60,सामाजिक कार्यकर्ता,1,सालगिरह,5,सास,2,साहित्य,78,सिंगल पैरेंट,1,सिंदूर,1,सीख-सुहानी,1,सीनू कुमारी,1,सुखी,1,सुजी,1,सूजी,1,सूजी के लड्डू,1,सेनेटरी नेपकिन,1,सेब,1,सेलिब्रेटी,1,सेवई उपमा,1,सेहत,1,सैंडविच,1,सौंफ,1,सौंफ का शरबत,1,सौंफ प्रीमिक्स,1,सौतेली माता,1,स्कूल,1,स्त्री,2,स्नैक्स,30,स्वतंंत्रता दिन,1,स्वतंत्रता दिन,2,स्वर्ग और नर्क,1,स्वाभिमान,1,स्वास्थ,2,स्वास्थ्य,10,हंस,1,हनुमान जी,2,हरी मटर के पैनकेक,1,हरी मिर्च,3,हरी मिर्च का अचार,1,हलवा,2,हाउसवाइफ,1,हाथी,1,हिंदी उखाणे,1,हिंदी उखाने,1,हिंदी दिवस,1,हिंदी शायरी,22,हैंडल,1,होटल,1,होममेकर,1,होली की शुभकामनाएं,1,
ltr
item
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल: बुलंदशहरों की बुलंदियों को कब तक लगता रहेगा ग्रहण??
बुलंदशहरों की बुलंदियों को कब तक लगता रहेगा ग्रहण??
जिसने एक बार हलाहल पान किया, वो सदियों से निलकंठ बन पूजा गया! बलात्कार पीड़िता हर रोज थोड़ा-थोड़ा विषपान करती है, है कोई उपाय जो पीड़िता का ताप कम कर सकेगा???
https://2.bp.blogspot.com/-usoY_H_pAUQ/V6SHFAEpPlI/AAAAAAAABpo/7YGmQxfncsI52hcx8fXmrH9xk2ibEW8MgCLcB/s400/Bulandshahar.jpg
https://2.bp.blogspot.com/-usoY_H_pAUQ/V6SHFAEpPlI/AAAAAAAABpo/7YGmQxfncsI52hcx8fXmrH9xk2ibEW8MgCLcB/s72-c/Bulandshahar.jpg
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
https://www.jyotidehliwal.com/2016/08/Bulandshahro-ki-bulandiyo-ko-grahan.html
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/2016/08/Bulandshahro-ki-bulandiyo-ko-grahan.html
true
7544976612941800155
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy