क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क है??

मरने के बाद स्वर्ग पाने के लिए इंसान कितने पापड़ बेलता है! लेकिन क्या आपके मन में कभी भी यह शंका नहीं आई कि क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क है या नहीं?

                             

क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क है??

मरने के बाद स्वर्ग पाने के लिए इंसान क्या-क्या, कौन-कौन से और कितने पापड़ बेलता है! अपनी इच्छाओं का दमन कर-कर के दान-दक्षिणा देता है। किसलिए? तो सिर्फ इसलिए कि इस जन्म में तो सुख-शांति और स्वर्ग के आंनद की अनुभुती नहीं हुई। कम से कम मरने के बाद तो स्वर्ग मिले...! लेकिन क्या आपके मन में कभी भी यह शंका नहीं आई कि क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क है या नहीं? है तो ब्रह्मांड में कहां पर है? आइए, हम थोड़ा विस्तार से इस पर सोचते है।

स्वर्ग और नर्क क्या है?
हमारे धर्मपरायण लोगों ने अपनी तीव्र कल्पनाशक्ति से हमें विस्तार से बताया है कि स्वर्ग क्या है? स्वर्ग में क्या-क्या सुविधायें है और नर्क में कितना कष्ट होता है। उन्होने बताया कि स्वर्ग में इंद्र, वरुण, सूर्य...आदि देवता रहते है, पृथ्वी की सारी पुण्यात्मायें स्वर्ग में रहती है। देवता और पुण्यात्मायें मदिरापान करते हुए अप्सराओं का नृत्य देखते रहते है। स्वर्ग में सब आनंद ही आनंद, सुख ही सुख है। इसके विपरीत नर्क में पापियों को उनके पापों के अनुसार सजा यातनाएँ दी जाती है। गरम-गरम तेल की कढ़ाई में डाला जाता है, बिजली के शॉक लगाए जाते है और विभिन्न प्राणी दर्द से कराहते रहते है,चिल्लाते रहते है!! सामान्यत: स्वर्ग और नर्क बोले तो, यहीं दृश्य हमारे आंखों के सामने आता है।

स्वर्ग और नर्क कहां पर है?
कहा जाता है कि स्वर्ग उपर है और नर्क निचे है। लेकिन यदि स्वर्ग उपर अंतरिक्ष में कहीं पर है, तो आज इसरो और नासा जैसी संस्थाओं द्वारा अंतरिक्ष में इतने उपग्रह भेजे गए है और जब ये उपग्रह अंतरिक्ष में लाखों-करोड़ों किलोमीटर तक यात्रा करते है, तो इन्हें कहीं तो स्वर्ग दिखता!! ठीक उसी तरह ज़मीन के भीतर, समुद्र के अंदर सैकड़ों फूट तक खुदाई करने पर भी आज तक कहीं भी नर्क नहीं मिला! क्यों?

क्या विभिन्न धर्मों के लिए स्वर्ग और नर्क अलग-अलग है?
हिंदु धर्म में स्वर्ग की कल्पना में, एक सभागृह में देवतागण मदिरापान करते हुए बैठे हुए है और अप्सराओं का नृत्य चल रहा है, यही है। इसमें कहीं भी ईसा-मसीह, बुद्ध, मुस्लिमों या जैनियों के भगवान नहीं है! हिंदुओं के स्वर्ग में बाकि धर्मों के देवी-देवता क्यों नहीं रह सकते? इसी तरह मैने कहीं पर पढ़ा था कि जैनिओं के मंदिरों में स्वर्ग का हवाई चित्र बना हुआ रहता है। जिसमें सभी चौबीस तिर्थकरों के मकान बने हुए है। पर उनमें कहीं भी कृष्ण, बुद्ध, ईसा-मसीह का घर नहीं है। क्या जैनियों का स्वर्ग सिर्फ जैन साधुओं के लिए ही है? बाकि धर्मों के भगवान उनके स्वर्ग में नहीं रह सकते? या फिर धरती की तरह स्वर्ग में भी विभिन्न धर्मों में झगड़े होते है, अत: वहां पर भी अलग-अलग धर्मों के भगवान के लिए अलग-अलग स्वर्ग है? यदि स्वर्ग में भी धार्मिक भेदभाव है, तो क्या हम उसे स्वर्ग कह सकते है??

वास्तविकता 
गीता में लिखा हैं कि
''आत्मा पर किसी भी चीज का कोई प्रभाव नहीं होता। आत्मा न पानी में डूब सकती हैं, ना हवा में उड़ सकती हैं और ना ही अग्नि में जल सकती हैं!” तो फ़िर आप ही सोचिए कि जब किसी पापी को नर्क में सजा दी जाती हैं तो कैसे दी जाती हैं? क्योंकि शरीर तो पृथ्वी पर क्या तो जला दिया जाता हैं या दफना दिया हैं। और आत्मा पर हवा, पानी एवं अग्नि किसी भी चीज का कोई असर होता ही नहीं! तो फ़िर नर्क में यातनाएं देंगे किसे? इस बात से साबित होता हैं कि स्वर्ग और नर्क सिर्फ़ हमारी कल्पनाएं हैं और कुछ नहीं!!!
वास्तव में, स्वर्ग और नर्क नाम के स्थान ब्रह्मांड में कहीं भी, है ही नहीं!! सुखों की प्राप्ति को स्वर्ग और दु:खों की प्राप्ति को नर्क कहते है! स्वर्ग हमारी आकांक्षाओं का सबूत है, तथ्यों का नहीं! वास्तविक स्वर्ग तो हमारे मन में है! जो यहां वास्तविक जीवन में संभव नहीं है, जो-जो बातें धरती पर इंसान करना चाहता है लेकिन कर नहीं सकता, उन सभी बातों को हम स्वर्ग में कर सकने का सपना देखते है। जैसे... यहां धरती पर हम रोजी-रोटी कमाने के लिए रात और दिन एक करते रहते है, चाह कर भी आराम से बैठ कर जिंदगी का मजा नहीं ले सकते। मदिरा पान करना, डांस बार में जाना गलत समझते है। जबकि इंसान की स्वाभाविक प्रवृती यह सब करने की होती है। इसलिए हम हमारी कल्पनाओं में, स्वर्ग में हमारे देवताओं को मदिरापान करते हुए और अप्सराओं का नृत्य देखते हुए आराम से बैठे हुए देखते है। जो लोग गर्म स्थानों पर रहते है, उनके स्वर्ग में ठंडी-ठंडी हवायें बहती है एवं जो लोग ठंडे इलाके में रहते है, उनके स्वर्ग में गर्मी रहती है। मतलब जो जो चीजें हमें यहां धरती पर नहीं मिलती, वो सब चीजों की कल्पना हम स्वर्ग में करते है!

आवश्यकता
अब सवाल यह आता है कि जब स्वर्ग और नर्क वास्तव में है हीं नहीं, तब हमारे पुराणों में इसकी कल्पना क्यों की गई है? मुझे लगता है, इसके मुख्यत: दो कारण है। एक अच्छा और दूसरा बूरा। अच्छा कारण यह है कि स्वर्ग के सुख की काल्पनिक आशा और नर्क का डर, लोगों को लुभा कर अच्छे मार्ग पर ले आता है, सदाचार के लिए प्रेरित करता है। बुरा कारण यह है कि कुछ धंधे-बाज धर्मपरायण लोग, भोली-भाली जनता को स्वर्ग का लालच देकर और नर्क का भय दिखा कर अपनी दुकानदारी चलाना चाहते है! हमारे धर्मपरायण लोग न तो स्वर्ग में रह कर आए थे और न ही नर्क से गुज़रे थे। फिर असल में स्वर्ग और नर्क में क्या-क्या होता है, इन्हें कैसे पता? 
जहां तक मृत्यु के बाद स्वर्ग और नर्क के प्राप्ति की बात है, तो वह बेमानी है। क्योंकि इस शरीर के नष्ट हो जाने के बाद स्वर्ग और नर्क की अनुभुती को बतलाने का कोई उपाय, आज भी विज्ञान के पास नहीं है। मरने के बाद आत्मा कहां जाती है, उसके साथ क्या होता है इसका आज तक कोई भी विश्वसनीय प्रमाण हमारे पास नहीं है! जो भी है सिर्फ कयास ही लगाए जाते है! यहां धरती पर ही जिस घर के लोगों में आपस में प्यार है, उस घर के लोगों को स्वर्ग के सुखों का एहसास होता है। और नर्क का लाइव देखना है तो किसी भी बड़े अस्पताल में जाने पर दर्द से कराहते लोग नर्क का एहसास करा देंगे! इसलिए ही, धरती पर हर इंसान स्वर्ग के सुखों की कामना तो करता है लेकिन स्वर्ग-वासी होना कोई नहीं चाहता!!!

डिस्‌‌क्लेमर- 
वास्तव में स्वर्ग और नर्क है या नहीं यह आज तक एक रहस्य ही है। क्योंकि मरने के बाद का ज्ञान हमेंं नहीं है। फिर भी यह पोस्ट लिखने का मेरा उद्देश सिर्फ इतना ही है कि कुछ धंधेबाज धर्मपरायण लोगों के बहकावे न आकर हमें सिर्फ अपने स्वयं के आचरण पर ध्यान केंद्रीत करना चाहिए। यदी हम किसी का अच्छा नहीं कर सकते, तो कम से कम किसी का बुरा नहीं करना चाहिए। ऐसा करने पर यहीं, धरती पर ही हमें स्वर्ग का सुख मिल सकता है! अंत में इतना ही कहुंगी,

      "स्वर्ग का सपना छोड़ दो, नर्क का डर छोड़ दो,
         कौन जाने क्या पाप और क्या पुण्य,
            बस..............................................
              किसी का दिल न दुखे अपने स्वार्थ के लिए,
                 बाकि सब कुदरत पर छोड़ दो!!"

यह मेरे अपने विचार है। ज़रुरी नहीं कि आप इससे सहमत ही हो। आपको क्या लगता है? क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क है?

Keywords: swarg-Nark, heaven and hell, existence of heaven and hell

COMMENTS

BLOGGER: 27
  1. क्या भगवान और शैतान होते हैं? हां होते हैं, मगर वो कोई आसमान के परे नहीं होते वो हमारे भीतर ही होते है। जब हम अच्छी और स्वस्थ सोच रखते है तब भगवान जागृत रहते है, जब बुरी संगति और गलत सोच में रहते है तब शैतान होते है वैसे ही जब हम अपने आस-पास का महौल खुशनुमा और आदर्श बनाये रखते हैं तब स्वर्ग जब हम माहौल घृणा और परनिंदा जैसा कृत करते है तब नर्क।
    ज्योति जी सब कुछ इंसान के अंदर और उसके आस-पास ही हैं।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. मनीषा जी, बिलकुल सही कहा आपने।

      हटाएं
    2. Ye baat sahi hai ki na aatma ko sastr kaat sakte hai na vayu sukha sakti hai na pani gila kar sakta hai na agni jala sakti hai kyu ki Yeh aatma parmatma ka hi ansh hai. Swarg aur nark mein jeevatma paap aur punye ka fal bhogti hai. Jab manushya marta hai to ye hi jeevatma uss aatamjot ke tukde ko lekar atharth aatma ko lekar aage jati hai aur Swarg aur nark me apne paap karmo ke falsawroop nark me dukh bhogti hai aur apne punye karmo ke falsawroop sukh bhogti hai.

      हटाएं
  2. Mere hisab se Bhagban bhi hote hain, swarg bhi hota hai aur narak bhi hota hai.....in sabhi ka ek hi sthan hota hai aur veh hai--Hamara man...hamare vichar....vaki kaun aur kahan hai....kuch pata nahi.....

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अमूल जी, बहुत ही कम और सही शब्दों में आपने विचार प्रगट किए है। सब कुछ हमारे मन के अंदर ही है।

      हटाएं
  3. क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क है?किंतु ये हैं या नहीं ये प्रश्न ही गलत है दूसरी बात जो कहते हैं नहीं है वो किस आधार पर कहती हैं क्या उन्होंने ब्रह्मांड की तलाशी ली है तीसरी बात जो पुराणों में लिखी बातों को काल्पनिक मानते हैं उसका आधार क्या है आखिर जब आधुनिक विज्ञान 0 तब इन्हीं पुराणों में वर्णित विधियों सेआकाश स्थित ग्रहण आदि की जानकारी की जाती थी फिर काल्पनिक कैसे हुए पुराण उसमें वर्णित आयुर्वेद काल्पनिक है क्या , !इसलिए पढ़े लिखे लोग ऐसे प्रश्नों से बचते हैं और बचना चाहिए भी !

    जवाब देंहटाएं
  4. शेष जी, यह सवाल सिर्फ इसलिए पूछा गया है ताकि स्वर्ग और नर्क के चक्कर में पड़कर हम कभी कभी हमारा वर्त्तमान ख़राब कर देते है, वो न हो। हमें यह बात अच्छी तरह समझनी होगी कि यह सब हमारे मन में ही है।

    जवाब देंहटाएं
  5. ज्योति जी मैं आपकी बात से सहमत हूँ ।मनुष्य अपने अच्छे कर्मो द्वारा चाहे तो धरती को स्वर्ग बना सकता है और बुरे कर्मो द्वारा नर्क।

    जवाब देंहटाएं
  6. ज्योति जी मैं आपकी बात से सहमत हूँ ।मनुष्य अपने अच्छे कर्मो द्वारा चाहे तो धरती को स्वर्ग बना सकता है और बुरे कर्मो द्वारा नर्क।

    जवाब देंहटाएं
  7. बेनामी23/5/16, 11:30 am

    इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  8. बेनामी23/5/16, 11:31 am

    हम किसी का अच्छा नहीं कर सकते, तो कम से कम किसी का बुरा नहीं करना चाहिए। ऐसा करने पर यहीं, धरती पर ही हमें स्वर्ग का सुख मिल सकता है" सहमत

    जवाब देंहटाएं
  9. अगर कोई इन्सान अच्छे कर्म करता है, जितना है उतने में ही खुश है, और उसे भौतिक सुखों कि ज्यादा लालसा नहीं हैं तो उसके लिए यहीं पर स्वर्ग है .....ज्यादा भौतिक सुखों कि लालसा में इन्सान गलत काम करता है और गलत काम करने वालों को नरक यहीं पर भोगना पड़ता है

    जवाब देंहटाएं
  10. इसके मुख्यत: दो कारण है। एक अच्छा और दूसरा बूरा। अच्छा कारण यह है कि स्वर्ग के सुख की काल्पनिक आशा और नर्क का डर, लोगों को लुभा कर अच्छे मार्ग पर ले आता है, सदाचार के लिए प्रेरित करता है। बुरा कारण यह है कि कुछ धंधे-बाज धर्मपरायण लोग, भोली-भाली जनता को स्वर्ग का लालच देकर और नर्क का भय दिखा कर अपनी दुकानदारी चलाना चाहते है! हमारे धर्मपरायण लोग न तो स्वर्ग में रह कर आए थे और न ही नर्क से गुज़रे थे। फिर असल में स्वर्ग और नर्क में क्या-क्या होता है, इन्हें कैसे पता? सटीक और दमदार बात यहां लिखी आपने ज्योति जी ! ये अवधारणा समाज को बुराइयों से बचाने और संगठित रखने के लिए अपनाई गयी होगी किन्तु इसका गलत उपयोग भी खूब हुआ !!

    जवाब देंहटाएं
  11. सभी धर्मोंं में स्‍वर्ग और नर्क के बारे में बताया गया है। यह सच भी हो सकता है। क्‍योंकि इसके वैज्ञानिक कारण भी हैं। समय समय पर इंसानों को परालौकिक ताकतों ने संदेश भी दिए हैं। अंतिम परालौकिक संदेश इस्‍लाम धर्म में मिलता हैं। पर वह बहुत ही वैज्ञानिक है। इस्‍लाम धर्म को माननेे वाले भी इसे ठीक ढंग से समझ नहीं पाए हैं। इसके बाद परालौकिक और ईश्‍वरीय शक्ति ने कभी इंसानों को अपना संदेश नहीं दिया है। बल्कि यह स्‍पष्‍ट भी किया है कि अब इंसानों को ऐसा कोई संदेश पुन: कभी प्राप्‍त नहीं होगा।

    जवाब देंहटाएं
  12. Mera manana hai ki sawarg aur narak hoa hai. Kyoki isse hi logo ke andar dar ki bhawana hoti hai. aur wo acha kaam karne ke liye vivash hote hai.

    जवाब देंहटाएं
  13. जो कुछ है वो यहीं ही लगता है ... जिसको अपने कर्मों द्वारा तय किया जाता है ...
    अच्छा आलेख है और आपकी बात से सहमत हूँ मैं भी ...

    जवाब देंहटाएं
  14. फ़र्क करता अगर वो बन्दों में ये ज़मी सबपे तन्ग हो जाती। होते सादिक ज़ुदा जो इन्सा के आसमानों पे ज़न्ग हो जाती (अग्यात)

    जवाब देंहटाएं
  15. फ़र्क करता अगर वो बन्दों में ये ज़मी सबपे तन्ग हो जाती। होते सादिक ज़ुदा जो इन्सा के आसमानों पे ज़न्ग हो जाती (अग्यात)

    जवाब देंहटाएं
  16. All is Fake. #You say exactly right jyoti ji. केवल अच्छे कर्म कीजिये.और हमेशा दूसरों की मदद कीजिये. And first thing भगवान् उन्ही की मदद करता है जो कुछ करना चाहते है. इसलिए भगवान् के भरोषे मत बैठिये हो सकता है की भगवान् आपके भरोषे बैठा हो.

    जवाब देंहटाएं
  17. "स्वर्ग का सपना छोड़ दो, नर्क का डर छोड़ दो,
    कौन जाने क्या पाप और क्या पुण्य,
    बस..............................................
    किसी का दिल न दुखे अपने स्वार्थ के लिए,
    बाकि सब कुदरत पर छोड़ दो!!"
    यही सच है।

    जवाब देंहटाएं
  18. شركة مكافحة حشرات بالجبيل تعد الشركة الاولي بالجبيل لتقديم خدمات مكافحة الحشرات باعلي جودة ممكنة وبأرخص الأسعار بالاستعانة بأفضل أجهزة الرش الحديثة وكذلك المبيدات الفعالة ذات التاثير الفعال علي الحشرات بجميع أنواعها وكل هذه الخدمات مقدمة من خلال فريق عمل متميز وذات خبرة عالية بمكافحة جميع أنواع الحشرات الطائرة والزاحفة فمع شركة مكافحة حشرات بالجبيل تستطيعون الحصول علي الخدمات المثالية لمكافحة الحشرات وكذلك تقدم شركة رش مبيدات بالجبيل الشركة الرائدة في مجال مكافحة الحشرات ورش المبيدات فحقا هي افضل شركة مكافحة حشرات بالجبيل للمزيد اتصلوا بنا علي جوال 0530260180

    जवाब देंहटाएं
  19. शानदार पोस्ट …. sundar prastuti … Thanks for sharing this!! �� ��

    जवाब देंहटाएं
  20. Nice post keep visiting thank you for sharing

    जवाब देंहटाएं
  21. सब काल्पनिक है बहुत ही शातिर लोगों ने स्वर्ग और नर्क बनाया है ।।

    जवाब देंहटाएं

नाम

'रेप प्रूफ पैंटी',1,#मीटू अभियान,1,#साड़ीट्विटर,1,10 मिनट रेसिपी,1,14 नवम्बर,1,15 अगस्त,3,1अक्टुबर,1,25 दिसम्बर,1,26 जनवरी,1,5000 रुपए किलों का गुड़,1,8 मार्च,4,अंंधविश्वास,1,अंकुरित अनाज,1,अंगदान,1,अंगुठी,1,अंगूर,1,अंगूर की लौंजी,1,अंगूर की सब्जी,1,अंग्रेजी,2,अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस,6,अंतरराष्ट्रीय वृद्धजन दिवस,2,अंतिम संस्कार,1,अंधविश्वास,22,अंधश्रद्धा,19,अंधश्रध्दा,3,अंश,1,अग्निपरीक्षा,1,अग्रवाल,1,अग्रसेन जयंती,1,अग्रसेन जयंती की शुभकामनाएं,1,अचार,13,अच्छी पत्नी,1,अच्छी पत्नी चाहिए तो...,1,अच्छे काम,1,अजब-गजब,3,अजय नागर,1,अतित,1,अदरक,1,अदरक का चूर्ण,1,अदरक-लहसुन पेस्ट,1,अनमोल वचन,10,अनरसा,1,अनुदान,1,अनुप जलोटा,1,अनोखी शादी,1,अन्न,1,अन्य,33,अन्याय,1,अपमान,1,अपेक्षा,1,अप्पे,4,अमरुद,1,अमरूद की खट्टी-मीठी चटनी,1,अमीरी,1,अमेजन,1,अरबी,1,अरुणा शानबाग,1,अरुनाचलम मुरुगनांथम,1,अलगाव,1,अवधेश,1,अवार्ड,2,अशोक चक्रधारी,1,असली हीरो,23,अस्पताल,1,अस्पतालों में बच्चों की मौत,1,आंवला,8,आंवला कैंडी,1,आंवला चटनी,1,आंवला मुरब्बा,1,आंवला लौंजी,1,आंवले का अचार,1,आंवले का शरबत,1,आंवले की गटागट,1,आइसक्रीम,1,आईसीयू ग्रेंडपा,1,आग,1,आज के जमाने की अच्छाइयां,1,आजादी,2,आज़ादी,1,आतंकवादी,2,आत्महत्या,5,आत्मा,1,आदित्य तिवारी,1,आप बीती,1,आम,10,आम का अचार,1,आम का पना,2,आम का मुरब्बा,2,आम की बर्फी,1,आम पापड़,1,आयशा खान,1,आयशा सुसाइड साबरमती,1,आरओ,1,आरक्षण,3,आरती मोर्य,1,आलिया भट्ट,1,आलू,5,आलू की पापडी,1,आलू की मठरी,1,आलू की सब्जी,1,आलू को स्टोर करना,1,आलू पोहा अप्पे,1,आलू प्याज के स्टफ्ड पकोड़े,1,आलू मसाला पूरी,1,आलू साबूदाना पापड़,1,इंसान,2,इंसानियत का पाठ,1,इंस्टंट डोसा,2,इंस्टंट पनीर मखनी,1,इंस्टंट मावा,1,इंस्टंट स्नैक्स,1,इंस्टट ढोकला,1,इंस्टेंट कलाकंद बर्फी,1,इंस्टेंट कुल्फी,1,इंस्टेंट नूडल्स,1,इंस्टेंट मिठाई,1,इडली,3,इन्डियन टाइम,1,इमली,1,इरोम शर्मिला,1,ईद,1,ईश्वर,7,ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना,1,ईसा मसीह,1,उटी,1,उपमा,3,उपवास,1,उपवास का हांडवो,1,उपवास की इडली,1,उपहार,2,उमा शर्मा,1,उम्र,1,उम्र का लिहाज,1,ऋषि पंचमी,1,एक सवाल,1,एल्युमिनियम फॉयल पेपर,1,ऐनी दिव्या,1,ऐश ट्रे,1,ऐस्टरॉइड,1,ऑनलाइन,1,ओट्स,1,ओट्स वेजिटेबल ढोकला,1,ओरियो स्वीट रोल,1,ओरैया,1,और इज्जत बच गई,1,औरंगाबाद हादसा,1,कंघा,1,कंडेंस्ड मिल्क,1,कंसन्ट्रेट आम पना,1,कच्चे आम,1,कच्चे आम का चटपटा पापड़,1,कछुआ,1,कटलेट्स,2,कढ़ी,1,कद्दु,1,कद्दु के गुलगुले,1,कद्दू,1,कद्दू का बेसन,1,कन्यादान,4,कन्यामान,1,कबीर सिंह मूवी,1,कम तेल की रेसिपी,1,कमाने वाली बहू,1,करवा चौथ,2,करवा चौथ शायरी,1,करवा-चौथ,6,कल्पना सरोज,1,कल्याणी श्रीवास्तव,1,कहानी,37,कांजी,1,कांजी वड़ा,1,काजू,1,काजू करी,1,कानून,1,कामवाली बाई,4,कालीन,1,किचन टिप्स,18,किचन सिंक,1,किटी पार्टी,1,किन्नर,1,कियारा आडवानी,1,किराए पर बीवियां,1,किसान,1,किसान आंदोलन,1,कुंडली मिलान,1,कुंबाकोणाम,1,कुंभ मेला,1,कुरकुरे,1,कुरकुरे भिंडी बाइट्स,1,कुल्फी,1,कुल्फी प्रीमिक्स,1,कूकर,1,कृषि विधेयक 2020,1,केईएम् अस्पताल,1,केचप,1,कैंडी,1,कैरी मिनाती,1,कॉर्न,4,कॉर्न इडली,1,कोंडागांव,1,कोको कोला,1,कोरोना,4,कोरोना टिप्स,1,कोरोना वरीयर्स,2,कोरोना वायरस,8,कोरोना वैक्सीन,1,कोल्ड ड्रिंक,2,कोविड-19,2,कोवीड-19,2,कौए,1,क्रिसमस डे,2,क्रिसमस डे की शुभकामनाएं,1,क्रिस्टियानो रोनाल्डो,1,क्रिस्पी डोसा बनाने के सिक्रेट्स,1,क्षमा,2,खजूर,1,खत,6,खबर,3,खरबूजा,2,खरबूजे का शरबत,1,खरेदी,1,खांडवी,1,खाद्य पदार्थ,1,खाना,1,खारक,1,खारी गरम,1,खाली पेट चाय,1,खीर,1,खुले में शौच,1,खुशी,2,खोया,2,गणतंत्र दिवस,1,गणेश चतुर्थी,4,गणेश चतुर्थी पर शायरी,1,गणेश चतुर्थी प्रसाद रेसिपी,1,गणेश जी,1,गन्ने का रस,1,गरम मसाला,1,गर्दन दर्द,1,गर्भावस्था,1,गर्भाशय,1,गलत व्यवहार,1,गलती,2,गांधी जयंती,1,गाजर,5,गाजर अप्पे,1,गाजर के पैनकेक,1,गाजर मूली का अचार,1,गाजर-मूली के दही बडे,1,गाय,1,गाली,1,गिफ्ट,1,गुजरात,1,गुजराती डिश,1,गुजिया,1,गुड़,1,गुड टच और बैड टच,2,गुड मॉर्निंग संदेश,1,गुड़हल,1,गुनगुना पानी,1,गुरु पूर्णिमा,1,गुरु पूर्णिमा की शुभकामनाएं,1,गुलगुले,1,गुलाब जामुन,1,गुस्सा,1,गूगल ट्रेंड्स,1,गृहस्वामिनी,1,गेहूं,1,गेहूं का आटा,1,गेहूं के आटे की मठरी,1,गैस बर्नर,2,गोभी और चना दाल के बडे,1,गोरखपुर,1,गोरा रंग,1,गोल्डन ग्रेवी प्रीमिक्स,1,गौरी पराशर,1,ग्रीन टी,1,घंटी,1,घिया,1,घी,2,घी की नदी,1,घी खाने के फायदे,1,चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण शक्ति,1,चकली,1,चटनी,9,चमत्कार,1,चाँद पर जमीन,1,चाय,2,चाय मसाला,1,चावल,3,चावल के पापड़,1,चावल के फ्रायम,1,चाशनी,1,चाशनी वाली मावा गुजिया,1,चींटी,1,चींटीया,1,चीज,1,चीनी देवता,1,चीला,4,चुर्ण,1,चूर्ण,6,छाछ,1,छींक,1,छोटी बाते,1,छोटे लेकिन काम के टिप्स,5,जज्बा,2,जनसंख्या,1,जन्मदिन,3,जन्मदिन की शुभकामनाएं,2,जन्माष्टमी,3,जन्माष्टमी रेसिपी,1,जमाना,1,जलेबी,1,जाट आंदोलन,1,जात-पात,1,जाति,3,जादुई दिया,1,जाम,1,जास्वंद,1,जिंदगी,2,जिम्नास्टिक,1,जींस,1,जीएसटी,1,जीरो ऑइल रेसिपी,5,जोमैटो,1,जोयिता मंडल,1,जोरु का गुलाम,1,ज्योतिष विद्या,1,ज्वार की रोटी,1,ज्वेलरी,1,झारखंड,1,झाले-वारणे,2,झूठ,1,टमाटर,1,टमाटर केचप,1,टमाटर प्यूरी,1,टमाटर सूप,1,टाइल्स पर के सिलेंडर के दाग,1,टिप्स कॉर्नर,66,टी.व्ही. और सिनेमा,1,टेबल टेनिस,1,टोक्यो ओलंपिक,2,टोक्यो पैरालंपिक,1,टोमैटो केचप,1,ठंडा पानी,1,ठंडे पेय,6,ठेचा,1,डर,2,डैंड्रफ,1,डॉक्टर,2,डॉटर्स डे,3,डॉटर्स डे विशेस,1,डॉटर्स डे शायरी,1,डोनाल्ड ट्रम्प,1,डोसा,2,ड्राई फ्रूट,2,ड्राई फ्रूट मोदक,1,ड्राई फ्रूट्स लड्डू,1,ड्रेगन,1,ढाबा स्टाइल सब्जी,2,ढाबे वाली दम अरबी,1,ढोकला,1,ढोकले,1,तरबूज,3,तरबूज के छिलके का हलवा,1,तरबूज खरीदने के टिप्स,1,तलाक,1,ताजे नारियल की बर्फी,1,तिल,4,तिल की कुरकुरी चिक्की,1,तिल के लड्डू,2,तिल गुड़ की रेवड़ी,1,तीज,1,तुलसी,1,तेजतर्रार बहू,1,तेल,1,तेलंगाना,1,तोहफ़ा,1,त्यौहार,1,थ्री इडियट्स,1,दक्षिणा,1,दर्द,1,दर्द का रिश्ता,1,दवा,1,दशहरा,1,दशहरा की शुभकामनाएं,1,दशहरा शायरी फोटो,1,दही,6,दही और लहसुन की चटनी,1,दही मसाला भिंडी,1,दही वाली लौकी की सब्जी,1,दही सैंडविच,1,दहेज,3,दाग-धब्बे,2,दान,1,दाले,2,दासी,1,दिपावली,1,दिपावली बधाई संदेश,3,दिवाली,2,दिवाली मिठाई,2,दिवाली रेसिपी,1,दिशा,1,दीपावली शुभकामना संदेश,1,दीवाली रेसिपी,1,दुःख,1,दुध पावडर,1,दुबई,1,दुबई यात्रा,1,दुर्गा माता,1,दुल्हा,1,दुश्मन,1,दूध,4,दूध गुलकंद मोदक,1,देश सेवा,1,देशभक्ति,3,देशभक्ति शायरी,2,देहदान,1,दोस्त,2,दोस्ती,1,धनिया,1,धर्म,3,धर्मग्रंध,1,धार्मिक,49,नई जनरेशन,2,नक्सली,1,नजर,1,नजर कैसे उतारु,1,नदी में पैसे,1,नन्ही परी,1,नमक पारे,1,नमकीन,1,नया साल,1,नरेद्र मोदी स्टेडियम,1,नवरात्र,2,नवरात्र स्पेशल,2,नवरात्रि,3,नवरात्रि की शुभकामनाएं,1,नवरात्रि शायरी फोटो,1,नवरात्री रेसिपी,10,नववर्ष,2,नववर्ष की शुभकामनाएं,2,नाइंसाफी,1,नाग पंचमी,1,नागरिकता संशोधन कानून,1,नानी,1,नारियल,2,नारियल की जटा,1,नारियल छिलने का तरीका,1,नारियल बर्फ़ी,1,नारी,64,नारी अत्याचार,18,नारी शिक्षा,1,नाश्ता,1,निंबु का अचार,1,निक वुजीकीक,1,निचली जाती,1,निमकी,1,निर्णयक्षमता,1,निर्भया,2,निवाला,1,नींबू,2,नींबू का रस,1,नींबू का शरबत,1,नीडल थ्रेडर,1,नेत्रदान,1,नेपाल त्रासदी,1,नेल आर्ट,1,न्याकिम गैटवेच,1,न्यू इयर रेसोल्युशन,1,न्यूजीलैंड,1,पकोडे,3,पकोड़े,2,पक्षी,1,पढ़ा-लिख़ा कौन?,1,पढ़ाई,1,पति,1,पति का अहं,1,पति की मौत,1,पति-पत्नी,1,पति-पत्नी संबंध,1,पत्ता गोभी,3,पत्ता गोभी की मुठिया,1,पत्नी,1,पत्र,1,पनीर,4,पनीर बटर मसाला,1,पनीर मोदक,1,पपीता,1,परंपरा,3,परफ्यूम,1,परवरिश,7,पराठे,2,परीक्षा,2,परेशानी,1,पर्स,1,पल्ली उत्सव,1,पवित्र,1,पवित्रता,2,पसंदीदा शिक्षक को पत्र,1,पांच मिनट रेसिपी,1,पान गुलकंद मोदक,1,पानी,1,पानी कैसे पीना चाहिए,1,पापड़,8,पालक,5,पालक के नमक पारे,1,पालक चीला,1,पालक बडी,2,पाश्चात्य संस्कृति,1,पिता,2,पीरियड,1,पीरियड पॉलिसी,1,पीरियड्स,3,पीरियड्स डिले टेबलेट्स,1,पीवी सिंधु,1,पुण्य,2,पुरानी मान्यताएं,1,पुलवामा हमला,1,पुष्कर,1,पूडी,2,पूरी,1,पूरी या पराठे,2,पेठे,1,पेड-पौधे,2,पेड़े,1,पेढे,1,पैड्मैन,1,पैदाइशी गरीब नहीं हूँ,1,पैनकेक,2,पैर हिलाना,1,पैरेंटीग,1,पोर्न मूवी,1,पोषण,1,पोहा,2,पोहे के कुरकुरे,1,पौधे,1,प्याज,5,प्याज की चटनी,1,प्याज के क्रिस्पी पकोड़े,1,प्यार,5,प्यासा कौआ,1,प्रत्यूषा,1,प्रद्युम्न,1,प्रवासी मजदूर,2,प्रसन्न,1,प्राणियों से सीख,1,प्रियंका रेड्डी,1,प्री वेडिंग फोटोशूट,1,प्रीमिक्स,4,प्रेम,1,प्लास्टिक बाल्टी कैसे साफ़ करे,1,फर्रुखाबाद,1,फल,2,फल और सब्जी खरीदने से पहले,1,फलाहार,1,फलाहारी दही वडे,1,फल्लिदाने,1,फादर्स डे,3,फूल,1,फूल गोभी के परांठे,1,फ़ेंगशुई,1,फेसबुक,2,फैशन,1,फ्रायम,1,फ्रिज,1,फ्रिज में सब्जी,1,फ्रेंडशीप डे,1,फ्रेंडशीप डे शायरी,1,बंटवारे की अनोखी शर्त,1,बंद सिंक,1,बकरीद,1,बची हुई सामग्री का उपयोग,1,बच्चे,10,बच्चे की ज़िद,1,बच्चें,1,बच्चों के प्रोजेक्ट,1,बछबारस,1,बटर,1,बड़ा कौन?,1,बढ़ती उम्र,2,बदला,1,बदलाव,1,बधाई संदेश,4,बरबादी,1,बर्फ़,1,बर्फी,4,बलात्कार,10,बहन की रक्षा,1,बहू,6,बहू जैसा प्यार,1,बागवानी,2,बाजरा,1,बाल दिवस,1,बाल धोना,1,बाल शोषण,2,बाहर का खाना,1,बिकिनी,1,बिना गैस रेसिपी,4,बिना चाशनी की मिठाई,2,बिना प्याज लहसुन की रेसिपी,7,बिमारियों की असली वजह,1,बिल्ली के गले में घंटी,1,बिस्किट,1,बिस्कुट,1,बुढ़ापा,1,बुर्ज अल-अरब,1,बुर्ज खलीफा,1,बुलंदशहर गैंगरेप,1,बेटा,2,बेटा पढाओ,1,बेटी,8,बेटी बचाओ अभियान,2,बेटे का फ़र्ज,1,बेबी फार्मिंग,1,बेमेल आहार,1,बेसन,2,बेसन के लड्डू,1,बेसन वाली कुरकुरी हरी मिर्च,1,बैंगन,1,बोझ,1,बोर होना,1,ब्रम्हाजी,1,ब्रेकअप,1,ब्रेकिंग न्यूज,1,ब्रेड,6,ब्रेड की रसमलाई,2,ब्रेड के शक्करपारे,1,ब्रेड पकोडा,1,ब्रेड पिस्ता पेढे,1,ब्रेड मलाई रोल,1,ब्रेन हेमरेज,1,ब्लॉगअद्दा एक्टिविटी,1,ब्लॉगर ऑफ द इयर 2019,1,ब्लॉगर्स रिकोग्निशन अवार्ड,1,ब्लॉगिंग,7,ब्ल्यू व्हेल गेम,1,भक्ति,1,भगर,5,भगर की इडली,1,भगर के उत्तपम,1,भगर के कटलेट,1,भगवान,4,भजिए,2,भरता,1,भरवां मिर्च,1,भरवां शिमला मिर्च,1,भरवां हरी मिर्च का अचार,1,भाई दूज शायरी,1,भाकरवड़ी,1,भागीरथी अम्मा,1,भाभी,1,भारत,2,भारतीय नारी,1,भारतीय मसाले,1,भाविना पटेल,1,भिंडी,2,भिखारी,1,भुट्टे के पकोड़े,1,भूकंप,1,भूख,1,भोंदू,1,भोजन,1,भ्रुण हत्या,1,मंदसौर गैंग रेप,1,मंदिर,3,मंदिरों में ड्रेस कोड़,1,मंदिरों में दक्षिणा,1,मकई,5,मकई उपमा,1,मकई चीला,1,मकई पकोडे,1,मकर संंक्रांति,1,मकर संक्रांति,4,मकर संक्रांति की शुभकामनाएं,1,मकर संक्राति,1,मखाना,1,मखाने के लड्डू,1,मजेदार पहेलियाँ,2,मटके पर औंधा लोटा,1,मटर,4,मटर के अप्पे,1,मटर के पकोड़े,1,मटर पनीर,1,मठरी,6,मठ्ठा,1,मथुरा के पेड़े,1,मदर्स डे,5,मदर्स डे का गिफ्ट,1,मम्मी,2,मर्द,1,मलाई,2,मलाई पनीर,1,मलाई फ्रूट सलाद,1,मल्ला तामो,1,मसाला छाछ,1,मसाला मठरी,1,मस्जिद,1,महात्मा गांधी जी,2,महानता,1,महाराजा अग्रसेन जी,1,महाराष्ट्र में आरक्षण,1,महिला आजादी,1,महिला आरक्षण,1,महिला दिवस,3,महिला सशक्तिकरण,4,महिला सुरक्षा,1,महिलाओं का पहनावा,1,माँ,6,माँ की हिम्मत,1,माउथ फ्रेशनर,1,माता यशोदा,1,माता लक्ष्मी,1,मातृभाषा,1,मायका,2,मारवाड़ी,1,मारवाडी रेसिपी,1,मार्केटिंग स्ट्रेटेजी,1,माला,1,मावा,1,मावा कुल्फी,1,मासिक धर्म,3,माहवारी,7,मिठाई,42,मिठाई मेट,1,मित्र,2,मिलावट,1,मिलावट पहचानने के घरेलू तरीके,1,मिलिबग्स,1,मिल्क पाउडर,1,मिल्कमेड,1,मिस इंडिया 2019,1,मीठे चावल,1,मीठे जर्दा चावल,1,मुक्ति,1,मुखवास,1,मुनगा,1,मुबारकपुर कला,1,मुरब्बा,1,मुरमुरा,1,मुरमुरा लड्डू,1,मुलेठी,1,मुस्लिम,1,मुस्लिम मंच,1,मुहूर्त,1,मूंग की सूखी दाल का हलवा,1,मूंग दाल,1,मूंग दाल डोसा,1,मूंगदाल और आटे की कुरकुरी मठरी,1,मूंगफली,1,मूंगफली काजू बर्फी,1,मूंगफली की सूखी चटनी,1,मूंगफली बर्फी,1,मूली,4,मूली का अचार,1,मूली के पत्तों के कुरकुरे कटलेट्स,1,मेंढक,1,मेंस्ट्रुअल कप,1,मेंहदी,9,मेडिसिन बाबा,1,मेथी,1,मेथी दाना चुर्ण,1,मेथी मटर मलाई,1,मेनु,1,मेरा मंत्र,3,मेरा श्राद्ध कर,1,मेरा सपना,1,मेरी अग्नि परीक्षा,1,मेरी बात,16,मैंगो फ्रूटी,1,मैंगो श्रीखंड,1,मैदा के मीठे पेठे,1,मैनर्स,1,मोदक,4,याकूब मोहम्मद,1,युरो 2020,1,यू ए ई,1,रंग,1,रंग पंचमी,1,रक्तदान,1,रक्तदान के फायदे,1,रक्षा बंधन,2,रक्षाबंधन,2,रक्षाबंधन शायरी,1,रजस्वला नारी,5,रवा इडली,1,रवा मठरी,1,रसे वाली अरबी,1,रसोई,180,रांगोली,3,राखी,5,राखी का अनोखा गिफ्ट,1,राखी स्पेशल मिठाई,1,राज की बात,1,राजभाषा,1,राजस्थानी समाज,2,राजस्व,1,राम,2,राम नाम सत्य है,1,राम मंदिर,1,राम रहीम,1,रामनवमी,1,रामनवमी की शुभकामनाएं,1,राशिफल,1,राशी-भविष्य,1,राष्ट्रगान,1,राष्ट्रगीत,1,राष्ट्रभाषा,1,रिती-रिवाज,1,रिफाइंड ऑयल,1,रिफाइंड ऑयल के नुकसान,1,रिफाइंड तेल,1,रीतिरिवाज,1,रुपया-पैसा,1,रेणुका मिश्रा,1,रेन वाटर हार्वेस्टिंग,1,रेवड़ी,1,रेसोल्युशन,1,रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम,1,रेस्टोरेंट स्टाइल सब्जी,3,रैंचो,1,रोटी,4,रोस्टेड मूंगफली,1,लकड़ी की राख,1,लकवा,1,लकी फेस,1,लकी या अनलकी चेहरा,1,लघुकथा,22,लच्छेदार मठरी,1,लड्डू,8,लहसुन,1,लहसुनी पालक,1,लाइटर,1,लाइफ स्किल्स,1,लाफिंग बुद्धा,1,लार,1,लाल मिर्च,1,लाल मिर्च का अचार,1,लाल मिर्च की सूखी चटनी,1,लिव इन,1,लिव इन रिलेशनशिप,1,लीव इन रिलेशनशिप,1,लेसवा का भरवां अचार,1,लेसुए,1,लैंगिक समानता,1,लॉकडाउन,3,लॉटरी,1,लोकल ट्रेन,1,लोकसभा चुनाव,1,लोग क्या कहेंगे?,1,लौंजी,1,लौकी,4,लौकी का भरता,1,लौकी का हलवा,1,लौकी की बड़ी,1,लौकी की सब्जी,1,वक्त,1,वटसावित्री व्रत,1,वर,1,वर्जिनिटी टेस्ट,1,वर्तमान,1,वर्षा जल संग्रहण,1,वर्षा जल संचयन,1,वाटर प्यूरीफायर,1,वायरल फोटो,1,वारी के हनुमान,1,विज्ञापन,2,विदर्भ स्पेशल रेसिपी,1,विधवा,2,विधवा ने किया कन्यादान,1,विधवा विवाह,1,विरुद्ध आहार,1,विशाखापट्टनम रेप कांड,1,वृंदावन,1,वृद्धावस्था,1,वेज कटलेट्स,1,वेजिटेबल डोसा,1,वेजिटेबल पैनकेक,1,वैलेंटाइन गिफ़्ट,1,वैलेंटाइन डे,4,वैलेंटाइन डे शायरी,1,वैश्विक महामारी,1,वोट,1,वोट की किंमत,1,व्यंग,14,व्यायाम,1,व्रत,2,व्रत के दही भल्ले,1,व्रत रेसिपी,22,व्रत स्पेशल,1,शकरकंद,2,शकरकंद की जलेबी,1,शकरकंद को कैसे भुने,1,शकुन-अपशकुन,2,शक्करपारे,2,शनि देव,1,शबनम मौसी,1,शब्द,1,शरबत,7,शराब की दुकान,1,शर्बत,1,शर्म,3,शवयात्रा,1,शहद,1,शहनाज गिल,1,शादी,9,शादी की खरेदी,1,शादी की फ़िजूलखर्ची का बिल,1,शादी के सालगिरह की शुभकामनाएं,1,शादी-ब्याह,3,शायरी,9,शावर,1,शाहिद कपूर,1,शिक्षक दिन,2,शिक्षक दिवस पर शायरी,1,शिक्षा,6,शिमला मिर्च,1,शिवपुरी,1,शिवलिंग,1,शुद्ध शहद की पहचान,1,शुभ मुहूर्त,1,शुभ-अशुभ,4,शुभकामना संदेश,1,शोक संदेश,1,श्रद्धांजलि मैसेज,1,श्रद्धांजलि शायरी,1,श्राद्ध,4,श्राद्ध का खाना,1,श्रीकृष्ण,3,श्रीराम की बहन,1,श्रेष्ठता,1,संत निकोलस,1,संसद,1,संस्कार,1,संस्मरण,10,सकारात्मक पहल,2,सच बोलने की प्रेरणा,1,सजा मुझे क्यों,1,सतबीर ढिल्लो,1,सपना,2,सफलता,1,सफेद कीड़े,1,सफेद बाल,1,सब्जियों का अचार,1,सब्जियों की कांजी,1,सब्जी,23,समय,2,समाजसेवा,2,समाजिक,1,समाधान,1,समावत चावल,3,समोसा,1,सर के बाल,2,सलाद,2,ससुराल,3,सस्ते कपड़े,1,सहजन,1,सहजन/मुनगा की कढ़ी,1,सहशिक्षा,1,सांता क्लॉज,1,सांप,1,सांभर वडी,1,सांवला या काला रंग,1,साउथ इंडियन डिश,3,साक्षात्कार,5,सागर में ज्वार,1,सातवीं सालगिरह,1,साफ-सफाई,1,साबुदाना,3,साबुदाना के अप्पे,1,साबुदाना पापड़,2,साबुदाने लड्डू,1,साबुन,1,साबूदाना,3,साबूदाना खिचड़ी,1,साबूदाना वड़ा,1,सामाजिक,100,सामाजिक कार्यकर्ता,1,सालगिरह,7,सावन,2,सास,4,साहित्य,121,सिंगल पैरेंट,1,सिंदूर,1,सिध्दार्थ शुक्ला,1,सिरका,1,सीएए,1,सीख-सुहानी,1,सीनू कुमारी,1,सुंदरता,1,सुई,1,सुखी,1,सुजी,1,सुप्रभात संदेश,1,सूजी,3,सूजी की मठरी,1,सूजी के पापड़,1,सूजी के लड्डू,2,सूप,1,सेनेटरी नेपकिन,1,सेब,2,सेब के छिलके,1,सेलिब्रिटी,1,सेलिब्रेटी,1,सेव मेरिट सेव नेशन,1,सेवई उपमा,1,सेहत,8,सैंडविच,1,सोच,1,सोनम वांंगचुक,1,सोलर हीटेड मिलिट्री टेंट,1,सोलो यूट्यूबर,1,सोशल मीडिया,1,सौंफ,1,सौंफ का शरबत,1,सौंफ प्रीमिक्स,1,सौतेली माता,1,स्कूल,2,स्टफ्ड आम पापड़,1,स्टफ्ड मैंगो रोल,1,स्टार्टर,1,स्टैच्यु ऑफ यूनिटी,1,स्त्री,2,स्नान,1,स्नैक्स,66,स्वतंंत्रता दिन,1,स्वतंत्रता दिन,2,स्वयं से प्यार,1,स्वर्ग और नर्क,1,स्वाभिमान,1,स्वास्थ,2,स्वास्थ्य,24,स्वीट कॉर्न,1,स्वीट कॉर्न खीर,1,हंस,1,हनुमान जी,2,हरियाली तीज की शुभकामनाएं,1,हरी मटर,1,हरी मटर के पैनकेक,1,हरी मटर को कैसे स्टोर करें,1,हरी मिर्च,5,हरी मिर्च का अचार,1,हलवा,3,हांडवो,2,हाउसवाइफ,1,हाथी,1,हार्ट अटैक,1,हिंदी उखाणे,1,हिंदी उखाने,1,हिंदी कहानी,3,हिंदी दिवस,1,हिंदी शायरी,36,हिंदु,1,हिंदू धर्म,1,हेयर कलर,1,हैंड सैनिटाइजर,1,हैंडल,1,हैसियत,1,होटल,1,होममेकर,1,होली की शुभकामनाएं,1,होली रेसिपी,1,
ltr
item
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल: क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क है??
क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क है??
मरने के बाद स्वर्ग पाने के लिए इंसान कितने पापड़ बेलता है! लेकिन क्या आपके मन में कभी भी यह शंका नहीं आई कि क्या वास्तव में स्वर्ग और नर्क है या नहीं?
https://1.bp.blogspot.com/-WxNF3ylNP5o/VzqjfiYkaSI/AAAAAAAABeE/oJk0VqCebn0qIfP729LFatU-k5pNz19cgCLcB/s1600/swarg%2Baur%2Bnark.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-WxNF3ylNP5o/VzqjfiYkaSI/AAAAAAAABeE/oJk0VqCebn0qIfP729LFatU-k5pNz19cgCLcB/s72-c/swarg%2Baur%2Bnark.jpg
आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
https://www.jyotidehliwal.com/2016/05/Kya-vastav-me-Swarg-Nark-hai.html
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/
https://www.jyotidehliwal.com/2016/05/Kya-vastav-me-Swarg-Nark-hai.html
true
7544976612941800155
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy